पानी के हवाई छिड़काव के लिये केजरीवाल सरकार ने केंद्र से मांगे हेलीकॉप्टर 

पानी के हवाई छिड़काव के लिये केजरीवाल सरकार ने केंद्र से मांगे हेलीकॉप्टर दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन

नई दिल्ली (भाषा)। केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के वायुमंडल में जमा प्रदूषक तत्वों को पानी के हवाई छिडकाव से नष्ट करने के लिये केंद्र सरकार से हेलीकॉप्टर या कोई अन्य वायुयान मुहैया कराने की मांग की है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने आज केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिखकर कहा है कि तापमान में गिरावट के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी के ऊपर जमा प्रदूषक तत्वों की मात्रा में इजाफा हो रहा है। इससे निजात पाने का एकमात्र तरीका हवा में पानी का छिड़काव करना है।

ये भी पढ़ें- प्रदूषण से मौतों में भारत पांचवें स्थान पर, एक साल में 25 लाख से ज़्यादा लोगों की मौत

उन्होंने कहा कि समूची दिल्ली के वायुमंडल में व्याप्त प्रदूषक तत्वों पीएम 10 और पीएम 2.5 को हटाने के लिये पानी की बौछारों का सहारा लेना पड़ेगा। इस बाबत हुसैन ने डॉ. हर्षवर्धन से हेलीकॉटर या कोई अन्य सक्षम विमान मुहैया कराने की मांग की।

उन्होंने डॉ. हर्षवर्धन से यह मामला नागर विमानन मंत्रालय के समक्ष उठाने का अनुरोध किया। हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि इस कवायद में होने वाले व्यय का वहन दिल्ली सरकार करेगी।

ये भी पढ़ें- रेड जोन में दिल्ली का वायु प्रदूषण, डीजल जनरेटर बैन

हुसैन ने कहा कि हाल ही में दिवाली के दौरान बारुद के इस्तेमाल और सर्द मौसम की आमद के बीच पड़ोसी राज्यों में किसानों द्वारा पराली जलाने से दिल्ली के वायुमंडल में प्रदूषक तत्वों की सघनता बढ़ना तय है। इसके मद्देनजर उन्होंने गत 17 अक्तूबर को उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण एवं निगरानी समिति की बैठक में किये गये फैसले के हवाले से डॉ. हर्षवर्धन से पानी के हवाई छिडकाव को दिल्ली पर वायु प्रदूषण के गहराते संकट का एकमात्र समाधान बताया। उन्होंने समस्या पर समय रहते काबू पाने के लिये पानी के हवाई छिड़काव हेतु डॉ. हर्षवर्धन से नागर विमानन मंत्रालय से हेलीकॉप्टर या कोई अन्य विमान मुहैया कराने का अनुरोध किया।

ये भी पढ़ें- प्रदूषण नियंत्रण में प्रमाण पत्र के बगैर वाहनों के बीमे का नवीनीकरण नहीं : SC

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top