इन भारतीयों और भारतीय मूल के लोगों को मिला है नोबेल पुरस्कार , जानिए कौन हैं वो 

Anusha MishraAnusha Mishra   7 Oct 2017 11:43 AM GMT

इन भारतीयों और भारतीय मूल के लोगों को मिला है नोबेल पुरस्कार , जानिए कौन हैं वो नोबेल पुरस्कार

लखनऊ। नोबेल पुरस्कार हर साल उन लोगों और संस्थाओं को दिया जाता है जिन्होंने रसायनशास्त्र, भौतिकीशास्त्र, अर्थशास्त्र, साहित्य, शांति, एवं औषधीविज्ञान के क्षेत्र में अद्वितीय योगदान दिया हो। यह पुरस्कार रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस, द स्वीडिश एकेडमी, द कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट, और द नॉर्वेजियन नोबेल कमेटी द्वारा दिया जाता है।

अल्फ्रेड नोबेल के वसीयत नामे के अनुसार 1895 में नोबल पुरस्कारों की शुरुआत हुई थी। अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कारों की शुरुआत 1968 में स्वीडन की केंद्रीय बैंक स्वेरिंज रिक्सबैंक ने की थी। प्रहर पुरस्कार एक अलग समिति देती है। द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस भौतिकी, अर्थशास्त्र और रसायनशास्त्र में, कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट औषधी के क्षेत्र में, नॉर्वेजियन नोबेल समिति शांति के क्षेत्र में पुरस्कार देती है। प्रत्येक विजेता को एक मेडल, एक डिप्लोमा, एक मोनेटरी एवार्ड प्रदान की जाती है।

यह भी पढ़ें : ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को उपन्यास ‘द रिमेन्स ऑफ द डे’ के लिए नोबेल साहित्य पुरस्कार

इस बार के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की जा रही है लेकिन फिलहाल अभी तक किसी भी भारतीय को इस साल नोबेल पुरस्कार के लिए नहीं चुना गया है लेकिन भारत में कई ऐसे लोग हैं जिन्हें ये पुरस्कार मिल चुका है।

रवींद्र नाथ टैगोर

1913 में बंगाली भाषा के साहित्यकार रवींद्र नाथ टैगोर को साहित्य में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वह पहले गैर यूरोपीय और भारतीय व्यक्ति थे जिन्हें साहित्य के लिए नोबेल मिला था।

सर चंद्रशेखर वेंकटरमन

1930 में सर चंद्रशेखर वेंकटरमन को भौतिकी में नोबेल पुरस्कार मिला था। प्रकाश के प्रकीर्णन पर काम करने के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया था। 1924 में उन्हें रॉयल सोसायटी ऑफ लंदन की तरफ से एक फेलो के रूप में चुना गया, 1929 में उन्हें नाइट की उपाधि से सम्मानित किया गया। 1954 में उन्हें भारत रत्न भी मिला।

मदर टेरेसा

1979 में मदर टेरेसा को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। यह पुरस्कार उन्हें कोलकाता में कुष्ठ रोगियों की सेवा करने के लिए मिला था।

अमर्त्य सेन

अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन को अपने काम के लिए 1998 में आर्थिक विज्ञान में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने एमआईटी, दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, जेएनयू, यूसी-बर्कले आदि सहित दुनिया के कई विश्वविद्यालयों और संस्थानों में पढ़ाया है।

अमर्त्य सेन

वेंकटरमन रामकृष्णन

वेंकटरमन रामकृष्णन, को 2009 में रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने थॉमस ए स्टीट्सि और एडा योनाथ के साथ इस पुरस्कार को साझा किया। रामकृष्णन लंदन के रॉयल सोसायटी के अध्यक्ष हैं।

कैलाश सत्यार्थी

बच्चों की शिक्षा और अधिकारों के लिए काम करने वाले कैलाश सत्यार्थी को 2014 में पाकिस्तान की मलाला यूसुफज़ई के साथ नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने भारत में बाल मज़दूरी को ख़त्म करने के लिए काफी काम किया है।

कैलाश सत्यार्थी।

ये भी पढ़ें : नोबेल मेडिसिन पुरस्‍कार : इंसान को रात में कैसे आती है नींद, बताती है बॉडी क्‍लॉक

समाजसेवी कैलाश सत्यार्थी के घर चोरी, नोबेल सर्टिफिकेट और रेप्लिका भी ले गए चोर

अनुराग कश्यप बनना चाहते थे वैज्ञानिक, पाना चाहते थे नोबेल पुरस्कार

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top