प्रधानमंत्री बीमा योजना में 74 करोड़ किसानों का हुआ बीमा

प्रधानमंत्री बीमा योजना में 74 करोड़ किसानों का हुआ बीमाप्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ने 74 करोड़ किसानों को किया कवर।

लखनऊ। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में पिछले एक साल में 2016-17 में देश के 74 करोड़ किसानों को कवर किया गया है, जिसमें गैर ऋणी किसानों की संख्या 1.35 करोड़ है। इस साल कृषि योग्य फसल क्षेत्र का 30 प्रतिशत हिस्से को बीमा कवर किया गया जबकि पिछले साल 2015-16 कुल बीमा कवरेज मात्र 23 प्रतिशत ही था।

केन्द्रीय कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2016-17 के दौरान कुल बीमित क्षेत्र 11 लाख हेक्टेयर को कवर किया गया है। एक साल में बीमित क्षेत्र के कुल कवरेज में 56.56 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है।

भारत सरकार की ओर से संचालित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के सरलीकरण एवं किसानों के हितों के अनुरूप करने से इस योजना में अधिक से अधिक किसान जुड़ रहे हैं। इस योजना में किसानों के हिस्से का प्रीमियम कम करने देने से भी किसानों को रूझान इस योजना की तरफ बढ़ा है और जिसका नतीजा है कि फसल क्षेत्र और फसलों का कवरेज बढ़ा है।

इस योजना में किसानों के हिस्से का प्रीमियम घटाकर सभी खाद्यान्न और तिलहन फसलों के लिए खरीफ में अधिकतम 2 प्रतिशत और रबी के लिए अधिकतम 1.5 प्रतिशत कर दिया गया है, साथ ही वार्षि‍क बागवानी और वाणि‍ज्‍यि‍क फसल के लि‍ए अधिकतम प्रीमि‍यम दर प्रतिशत कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना : पिछले वर्ष खरीफ सीजन का 1900 करोड़ रुपए का क्लेम बाकी

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में किसानों को उनकी क्षतिपूर्ति का लाभ जल्द से जल्द मिल सके इसलिए इस बार उच्च तकनीक का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। पिछली फसल बीमा योजनाओं में उच्च तकनीक का इस्तेमाल न होने के कारण बीमा दावों के निपटारे में काफी समय लगा था। नई योजना के तहत फसल कटाई के बाद एक माह के अंदर राज्यों को सीसीई के आंकड़े बीमा कंपनियों को देने होते है और सीसीई के आंकड़े प्राप्त होने के तीन सप्ताह के भीतर बीमा कंपनियों को बीमा दावों का भुगतान करना होता है।

पिछली फसल बीमा योजनाओं में फसलों का उपज आंकलन बिना तकनीक के परंपरागत तरीके से किया जाता था जिससे फसल कटाई प्रयोग के आंकड़े मिलने में बहुत समय लग जाता था। इस विलंब को दूर करने और पारदर्शिता लाने के लिए फसल कटाई के आंकड़े अनिवार्य रूप से स्मार्टफोन प्रयोग कर सीसीई एप्प (CCE-agri) की जरिए फसल बीमा पोर्टल पर भेजने का प्रावधान किया गया है |

इस साल लगभग 12 लाख किसानों ने फसल बीमा के लिए आनलाइन पंजीकरण किया है| बीमा दावों का भुगतान सीधे किसानों के बैंक खाते में जमा कराने हेतु प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण यानि डीबीटी भी लागू कर दिया गया है।

देशभर में 943.45 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ फसलों की बुवाई

खरीफ सीजन-2017-18 में देश में रिकार्ड फसलों की बुवाई हुई है। केन्द्रीय कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार विभिन्न राज्यों से जो रिपोर्ट मिली है उसके मुताबिक 11 अगस्त, 2017 तक देशभर में 943.45 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ फसलों की बुवाई की गई है, जबकि पिछले वर्ष इस समय तक 936.95 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बुवाई की गई थी। इस खरीफ सीजन में अभी तक 320.29 लाख हेक्टेयर में धान की बुवाई/रोपाई हुई है, जबकि 127.48 लाख हेक्टेयर में दलहन, 167.50 लाख हेक्टेयर में मोटे अनाज, 49.73 लाख हेक्टेयर में गन्ना और 117.11 लाख हेक्टेयर में कपास की बुवाई हुई है।

ये भी पढ़ें: वीडियो : प्रधानमंत्री जी...आपकी फसल बीमा योजना के रास्ते में किसानों के लिए ब्रेकर बहुत हैं

Share it
Top