तस्वीरों के ज़रिये करिये नैनीताल की खूबसूरत वादियों की सैर

तस्वीरों के ज़रिये करिये नैनीताल की खूबसूरत वादियों की सैरफोटोः प्रमोद अधिकारी

लखनऊ। नैनीताल भारत के उत्तराखण्ड राज्य का एक प्रमुख पर्यटन नगर है। यह नैनीताल जिले का मुख्यालय भी है। कुमाऊँ क्षेत्र में नैनीताल जिले का विशेष महत्व है। देश के प्रमुख क्षेत्रों में नैनीताल को गिना जाता है। इस अंचल मे पहले साठ मनोरम ताल थे। आज भी नैनीताल जिले में सबसे अधिक ताल हैं।

इसे भारत का लेक डिस्ट्रिक्ट कहा जाता है, क्योंकि यह पूरी जगह झीलों से घिरी हुई है। 'नैनी' शब्द का अर्थ है आँखें और 'ताल' का अर्थ है झील। झीलों का शहर नैनीताल उत्तराखंड का प्रसिद्ध पर्यटन स्‍थल है। बर्फ़ से ढ़के पहाड़ों के बीच बसा यह स्‍थान झीलों से घिरा हुआ है।

ये भी देखें : 140 साल के कछुए से लेकर सबसे पारदर्शी झील तक, इन तस्वीरों से कीजिए दुनिया की ख़ूबसूरती की सैर

इनमें से सबसे प्रमुख झील नैनी झील है जिसके नाम पर इस जगह का नाम नैनीताल पड़ा है। इसलिए इसे झीलों का शहर भी कहा जाता है। नैनीताल को जिधर से देखा जाए, यह बेहद ख़ूबसूरत है।

समुद्र तल से नैनीताल की कुल ऊंचाई लगभग 1938 मीटर (6358 फुट) है। नैनीताल की घाटी में नाशपाती के आकार की एक झील है जो नैनी झील के नाम से जानी जाती है।

इस झील के चारों ओर स्थित पहाड़ों के उत्तर में इनकी सबसे ऊंची चोटी नैना पीक है जिसकी ऊँचाई 2615 मीटर (8579 फीट) है, जबकि पश्चिम की ओर देवपाठा 2438 मीटर (7999 फुट) और दक्षिण मे अयार पाठा 2278 मीटर (7474 फुट) स्थित है। इन चोटियों से संपूर्ण क्षेत्र के मनोरम दृश्य दिखते हैं।

गर्मियों मे नैनीताल की आबादी उसकी कुल आबादी से लगभग पाँच गुणा से भी अधिक तक बढ़ जाती है जिसका मुख्य कारण मैदानी इलाकों से आने वाले पर्यटकों की वार्षिक आमद है। सर्दियों में, नैनीताल मे दिसंबर से फरवरी के मध्य हिमपात होता है और इस दौरान तापमान अधिकतम 15 डिग्री सेल्सियस (59 °F) से लेकर न्यूनतम -3 डिग्री सेल्सियस (27 °F) तक चला जाता है।

सभी फोटोः प्रमोद अधिकारी

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top