सरकारी कर्मचारियों की नहीं चलेगी लेट-लतीफी, हाजिरी के लिए भेजनी होगी सेल्फी

संसेवा नाम के इस ऐप को गूगल के प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। कर्मचारियों की हाजिरी बनाने के लिए इस ऐप में जीपीएस, सेल्फी इमेज कैप्चरिंग सुविधा दी गई है।

सरकारी कर्मचारियों की नहीं चलेगी लेट-लतीफी, हाजिरी के लिए भेजनी होगी सेल्फी

मुंगेर/ लखनऊ। सरकारी दफ्तरों में लेट-लतीफी पर लगाम लगाने के लिए मुंगेर जिला प्रशासन ने नायाब तरिका खोज निकाला है। जिसके तहत जिलाधिकारी ने मोबाइल ऐप लांच किया है। जिस पर सभी को हाजिरी लगानी होगी। यह प्रयोग अभी ग्रामीण विकास विभाग से संबद्ध कर्मचारियों के साथ किया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा और कड़ी, मंत्री और सांसद भी नहीं जा सकेंगे पास

सरकारी विभागों में तय समय के बाद और समय से पहले निकल जाने की अक्सर शिकायत मिलती रहती है। लेकिन अब ऐसे कर्मचारियों को तय समय तक ड्यूटी करना होगा। क्योंकि मोबाइल ऐप पर उन्हें अपनी फोटो के साथ अटेंडेंस देनी होगी। इसके साथ ही फिल्ड में मौजूद रहने वाले कर्मचारियों को भी फोटो के साथ ही पूरा डाटा रिकार्ड करके भेजना होगा। ऐसा सभी दिन में दो बार करने का आदेश दिया गया है।

जानिए किस तरह किसानों के लिए मददगार साबित हो रहें खेती संबंधित मोबाइल ऐप



मुंगेर के जिलाधिकारी आंनद शर्मा ने बताया, " जिले के सरकारी कर्मचारियों के अपने कार्य क्षेत्र में रोज की उपस्थिति दर्ज कराने के लिए और उनपर नजर रखने के लिए इस ऐप को लॉन्च किया गया है। इस तकनीक के सहारे लापरवाह कर्मचारियों पर नजर रखी जाएगी। "

संसेवा नाम के इस ऐप को गूगल के प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। कर्मचारियों की हाजिरी बनाने के लिए इस ऐप में जीपीएस, जिओफेन्सिंग, सेल्फी इमेज कैप्चरिंग सुविधा दी गई है। पहले चरण में ग्रामीण विकास विभाग के करीब 300 कर्मचारियों की हाजिरी इस ऐप से की जाएगी। जिलाधिकारी ने बताया, आने वाले समय में सभी सरकारी विभाग को ऐप से जोड़ा जाएगा। इस ऐप के माध्यम से सरकारी कर्मचारी के कार्यदिवस में औचक निरीक्षण भी किया जा सकता है। इसके साथ ही अवकाश संबंधी प्रतिवेदन भी इसके माध्यम से भेजा जाएगा।

छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य संबंधी जानकारी मोबाइल ऐप से मिलेगी


Share it
Top