तिरंगे को आज ही के दिन घोषित किया गया था राष्ट्रीय ध्वज, जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें

Vineet BajpaiVineet Bajpai   22 July 2017 9:15 AM GMT

तिरंगे को आज ही के दिन घोषित किया गया था राष्ट्रीय ध्वज, जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातेंराष्ट्रीय ध्वज।

लखनऊ। 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों से भारत की स्वतंत्रता के कुछ ही दिन पहले 22 जुलाई, 1947 को आयोजित भारतीय संविधान-सभा की बैठक में तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अपनाया गया था। इसमें तीन समान चौड़ाई की क्षैतिज पट्टियाँ होती हैं, जिनमें सबसे ऊपर केसरिया, बीच में श्वेत ओर नीचे गहरे हरे रंग की पट्टी है।

ध्वज की लम्बाई एवं चौड़ाई का अनुपात 3:2 है। सफेद पट्टी के मध्य में गहरे नीले रंग का एक चक्र है, जिसमें 24 तीलियां होती हैं। इस चक्र का व्यास लगभग सफेद पट्टी की चौड़ाई के बराबर होता है व रूप सारनाथ में स्थित अशोक स्तंभ के शेर के शीर्षफलक के चक्र में दिखने वाले की तरह होता है।

राष्ट्रीय ध्वज से जुड़ी खास बातें

  • गांधी जी ने सबसे पहले 1921 में कांग्रेस के अपने झंडे की बात की थी। इस झंडे को पिंगली वेंकैया ने डिजाइन किया था। इसमें दो रंग थे लाल रंग हिन्दुओं के लिए और हरा रंग मुस्लिमों के लिए। बीच में एक चक्र था। बाद में इसमें अन्य धर्मो के लिए सफेद रंग जोड़ा गया। इसमें चरखे की जगह अशोक चक्र ने ली।

ये भी पढ़ें : तिरंगा फहराने से पहले एक बार जरूर पढ़ लें राष्ट्रध्वज की ये गाइडलाइंस

  • 21 फीट गुणा 14 फीट के झंडे पूरे देश में केवल तीन किलों के ऊपर फहराए जाते हैं। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में स्थित किला उनमें से एक है। इसके अतरिक्त कर्नाटक का नारगुंड किले और महाराष्ट्र का पनहाला किले पर भी सबसे लम्बे झंडे को फहराया जाता है।
  • 1951 में पहली बार भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने पहली बार राष्ट्रध्वज के लिए कुछ नियम तय किए।
  • 1968 में तिरंगा निर्माण के मानक तय किए गए। ये नियम अत्यंत कड़े हैं।
  • केवल खादी या हाथ से काता गया कपड़ा ही झंडा बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • कपड़ा बुनने से लेकर झंडा बनने तक की प्रक्रिया में कई बार इसकी टेस्टिंग की जाती है।
  • झंडा बनाने के लिए दो तरह की खादी का प्रयोग किया जाता है। एक वह खादी जिससे कपड़ा बनता है और दूसरा खादी-टाट।

ये भी पढ़ें : भारत के एक किसान की बेटी जिसने माउंट एवरेस्ट पर सबसे पहले फहराया था तिरंगा

  • खादी के केवल कपास, रेशम और ऊन का प्रयोग किया जाता है।
  • धारवाण के निकट गदग और कर्नाटक के बागलकोट में ही खादी की बुनाई की जाती है। जबकी 'हुबली' एक मात्र लाइसेंस प्राप्त संस्थान है जहां से झंडा उत्पादन व आपूर्ति की जाती है।
  • बुनाई से लेकर बाजार में पहुंचने तक कई बार बीआईएस प्रयोगशालाओं में इसका परीक्षण होता है। बुनाई के बाद सामग्री को परीक्षण के लिए भेजा जाता है।
  • कड़े गुणवत्ता परीक्षण के बाद उसे वापस कारखाने भेज दिया जाता है। इसके बाद उसे तीन रंगो में रंगा जाता है।
  • केंद्र में अशोक चक्र को काढ़ा जाता है। उसके बाद इसे फिर परीक्षण के लिए भेजा जाता है।
  • बीआईएस झंडे की जांच करता है इसके बाद ही इसे बाजार में बेचने के लिए भेजा जाता है।

ये भी पढ़ें : रवि बहल : एक्टर, डांसर, सिंगर और प्रोड्यूसर, जिसने संघर्ष से दोस्ती कर ली

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top