गाँव कनेक्शन ख़बर का असरः CM ने पूरा किया वादा

गाँव कनेक्शन ख़बर का असरः CM ने पूरा किया वादाgaonconnection

रायबरेली। पिछले पांच वर्षों से एक निजी गैस कंपनी की धोखाधड़ी का शिकार हुए अंजली (17 वर्ष) के परिवार को अखिरकार राहत की सांस मिली। अंजली की बहादुरी और उसकी हार न मानने की ताकत के आगे उसके परिवार के साथ धोखाधड़ी करने वाली गैस एजेंसी ने आखिरकार हार मान ली है।

अंजली मुस्कुराते हुए कहती है,’’ पिछले हफ्ते शनिवार को कोतवाली से मम्मी के पास फोन आया था। फोन पर इंस्पेक्टर ने बताया कि गैस कंपनी के मैनेजर देवेश का फोन आया है और उन्होंने हमारे खाते में एक लाख रुपए डाल दिए हैं।”

उसने बताया कि उन्होंने यह भी कहा है कि बाकी बची सिक्योरिटी के छह लाख रुपए 12 अगस्त तक भेजे जाएंगे।   

पांच वर्षों से आदित्य फ्यूल्स नाम की निजी गैस एजेंसी की धोखाधड़ी का शिकार हुए अंजली के परिवार का एक-एक दिन मुश्किल से कट रहा था। हालत यह हो गई थी कि परिवार आर्थिक तंगी के कारण भुखमरी की कगार पर पहुंच चुका था। नगर कोतवाली से आए फोन पर यह खुशखबरी सुनते ही अंजली की खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। उसे बेचैनी हो रही थी कि कैसे रविवार बीते और वो सोमवार को बैंक जाकर अपना खाता चेक करे। अंजली ने बताया कि सोमवार को मैं अपने फूफा (अखिलेश मिश्रा) के साथ बैंक पहुंची और पासबुक अपडेट करवाई, खाते में एक लाख रुपए देख कर मेरी आंखों में आंसू आ गए।

रायबरेली जिलाधिकारी समेत महिला आयोग, राज्यपाल रामनाइक, यहां तक कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक अपनी परिवार की समस्या को लेकर गुहार लगा चुकीं अंजली ने पिछले वर्ष दो दिसम्बर को गाँव कनेक्शन के 'स्वयं अवार्ड' में आए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अपने परिवार के खिलाफ हुई धोखाधड़ी का पत्र सौंपा था जिस पर मुख्यमंत्री ने उसे न्याय दिलाने का वादा किया था।

अंजली के फूफा अखिलेश मिश्रा बताते हैं, “ मैं इस खुशखबरी का श्रेय 'गाँव कनेक्शन' अखबार को देना चाहता हूं, जिसकी वजह से कंपनी पर दबाव बना। हमारे खाते में पैसे आएं। अभी कंपनी ने सिर्फ सिक्योरिटी के पैसे लौटाने को कहा है। अंजली की मेहनत की वजह से आज इस परिवार में वापस खुशियां आई हैं।’’ अपनी परिवार की कमज़ोर हालत और न्याय पाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने के बावजूद अंजली ने इस बार अपनी 12वीं की बोर्ड परीक्षा में 78 फीसदी अंक पाए हैं।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top