इतिहास रचता गोंडा: एक दिन में श्रमिकों को रिकॉर्डतोड़ साइकिलें बांटी

इतिहास रचता गोंडा: एक दिन में श्रमिकों को रिकॉर्डतोड़ साइकिलें बांटीकार्यक्रम में श्रमिकों को 13,000 साइकिलें वितरित की गई।

गोंडा। श्रम विभाग की ओर से जनपद गोंडा में एक ही दिन में 13,000 श्रमिकों को नि:शुल्क साइकिल का वितरण कर रविवार को एक नया रिकॉर्ड बनाया है। हालांकि साइकिल वितरण कार्यक्रम के रूप में नया कीर्तिमान बनाने के लिए जिला प्रशासन की आरे से पहले से ही तैयारियां शुरू कर दी गई थीं। मगर यह गोंडा का यह रिकॉर्ड अलग स्थान रखता है। बता दें कि इससे पहले मेरठ जिले में एक दिन में 7,500 साइकिलों का वितरण किया गया था।

डीएम के निर्देश में शुरू हुई तैयारियां, पांच माह पहले ही बना रिकॉर्ड

जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने मजदूर दिवस एक मई के अवसर और ग्राम उद्धार दिवस दो अक्टूबर के दिन से ही गावों एवं ब्लाकों पर कैम्प लगवाकर श्रमिकों के पंजीकरण का कार्य प्रारम्भ कराना शुरू कर दिया था। कैम्प लगाकर पंजीकरण कराने का परिणाम यह रहा कि जनपद गोंडा ने वित्तीय वर्ष में निर्धारित पंजीकरण का लक्ष्य पांच माह पहले ही प्राप्त रिकार्ड कायम कर दिया।

गरीबों, किसानों एवं मजदूरों की सरकार

लाभार्थी महिला मजदूरों को साइकिल वितरित करते डीएम आशुतोष निरंजन।

साइकिल वितरण समारोह का शुभारम्भ प्रदेश के कृषि मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार वास्तव में गरीबों, किसानों एवं मजदूरों की सरकार है और युवा मुख्यमंत्री की सरकार मजदूरों के उत्थान हेतु अत्यंत संवदेनशील और दृढ़ प्रतिज्ञ है। श्रमिकों के कल्याण के लिए सरकार द्वारा तमाम योजनाओं का सफल क्रियान्वन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनपद गोण्डा में एक दिन में एक साथ 13,000 श्रमिकों को मुफ्त साइकिल देकर मुख्यमंत्री ने गरीबों का सम्मान बढ़ाने का काम किया है। इससे मजदूर भाइयों को अपने गन्तव्यों तक पहुंचने में आसानी होगी।

डीएम ने गिनाईं योजनाएं

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डीएम आशुतोष निरंजन ने प्रदेश सरकार का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि श्रमिक भाइयों के कल्याण के लिए साइकिल वितरण योजना के अलावा और भी तमाम योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिसका लाभ वे सब जरूर उठावें। डीएम ने बताया कि श्रमिकों के कल्याण हेतु शिशु हितलाभ योजना, मातृत्व हितलाभ योजना, बालिका हितलाभ योजना, मृत्यु एवं अन्त्येष्टि सहायता, दुर्घटना सहायता योजना, गम्भीर बीमारी सहायता योजना, अक्षमता पेंशन योजना, मेधावी छात्र पुरस्कार योजना, सौर ऊर्जा योजना, आवास सहायता योजना, पेंशन योजना, कौशल विकास तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजना एवं निर्माण कामगार पुत्री विवाह योजना जैसी उत्कृष्ट योजनाएं संचालित की जा रही हैं।

16 कांउटर और हेल्प डेस्क बनाया

कार्यक्रम में साइकिल के साथ एक महिला मजदूर।

वहीं, एसपी सुधीर सिंह ने प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं के सशक्तीकरण हेतु संचालित डॉयल यूपी 1090 एवं 100 नम्बर के बारे में बताते कहा कि वे सब किसी भी परेशानी की स्थिति में इन नम्बरों पर फोन करें, तत्काल पुलिस उनकी सहायता के लिए पहुंचेगी। मुख्य विकास अधिकारी जयंत दीक्षित ने बताया कि साइकिल वितरण कार्यक्रम को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने के लिए 16 काउन्टर और एक हेल्पडेस्क बनाए गए थे। इसके अलावा सभी लाभार्थियों को उनके घर पर टोकन भेजने की प्रक्रिया अपनाई गई। ग्राम प्रधानों के माध्यम से लाभार्थियों को वितरण स्थल तक लाया गया। टोकन नम्बर के आधार पर प्रत्येक काउन्टर पर लगभग आठ सौ लाभार्थियों को साइकिल बांटी गई। इसके अलावा यातायात व्यवस्था सहित सुचारू वितरण हेतु पुलिस बल के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।

कार्यक्रम में यह भी रहे उपस्थित

साइकिल वितरण समारोह के अवसर पर विधायिका नन्दिता शुक्ला, खाद्य प्रसंस्करण विभाग के सलाहकार कमरूद्दीन, यूपी एग्रो के डायरेक्टर साबिर अली, पूर्व विधायक बैजनाथ दूबे, उपश्रमायुक्त देवीपाटन मण्डल शमीम अख्तर अंसारी, अपर जिलाधिकारी त्रिलोकी सिंह, एएसपी सुनील सिंह, युवा सपा नेता सूरज सिंह, महिला सभा की अध्यक्ष साधना सिंह, नगर मजिस्ट्रेट जगदीश सिंह, एसडीएम विनोद कुमार सिंह, सीओ सिटी भरत यादव, सीओ करनैलगंज एस0 हम्द, सीओ मनकापुर विजय आनन्द सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण व श्रमिक उपस्थित रहे।

Share it
Top