छठ पूजा 2021: देखिए कैसे मनाया गया आस्था का महापर्व

सूर्य देवता को अर्घ्य देने के साथ ही आस्था के महापर्व छठ पूजा का समापन हो गया, चार दिनों तक चलने वाले इस पर्व की शुरूआत नहाय खाय से होती है और समापन ऊषा अर्घ्य के साथ होता है।

Abhishek VermaAbhishek Verma   11 Nov 2021 9:41 AM GMT

आज छठ पूजा के चौथे दिन उगते सूरज को अर्घ्य देने के साथ ही महापर्व का समापन हो गया। नदी, तालाब में लोगों ने सूरज देवता को अर्घ्य दिया।

नहाय खाय के साथ ही 36 घंटे के निर्जला व्रत की शुरूआत की जाती है, उत्तर भारत के कई राज्यों के साथ ही देश के अलग-अलग हिस्सों में चार दिनों तक महापर्व का उत्सव मनाया जाता है।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी के मुख्य घाट अहिल्याबाई घाट और दशाश्वमेध घाट पर भक्तों ने आज सुबह गंगा के तट पर सूर्य को उषा अर्घ्य दिया।

चार दिन तक चलने वाले इस त्योहार के दौरान सूर्य और छठी मैया की पूजा की जाएगी। छठ मैया देवी उषा हैं जिन्हें वैदिक काल से सूर्य की पत्नी माना जाता रहा है। यह त्योहार बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों और नेपाल में भी बड़े जोर-शोर से मनाया जाता है।

अन्य हिंदू त्योहारों की तुलना में छठ पूजा को काफी कठिन माना जाता है। इन दिनों कई अनुष्ठान किए जाते है। भक्त इकट्ठा होकर नदियों, तालाबों और जल निकायों में पवित्र डुबकी लगाते हैं। वे चार दिन तक सख्त उपवास भी रखते हैं।


















Also Read: Photo Story: नहाय खाय से लेकर अर्घ्य तक, बिहार और झारखंड में लोग कैसे मनाते हैं छठ पूजा

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.