जानवरों के झुण्ड कर रहे किसानों की फसल बर्बाद

जानवरों के झुण्ड कर रहे किसानों  की फसल बर्बादgaonconnection

लखनऊ। जंगली जानवर और पालतू जानवर किसानों के लिए बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है। जानवरों के झुण्ड किसानों की फसलों को खाकर और पैरो से रौंदकर बर्बाद कर रहे हैं। अभी खेतों में धान की बेढ़ लगाई ही गई है कि जानवर धान की फसल को बर्बाद कर रहे है।

इन जानवरों के झुण्डों से फसल को बचाने के लिए किसान रात रात भर जाग कर खेतों पर पहरा देने को मजबूर हो गए हैं। लेकिन इसके बावजूद भी जानवरों को एक खेत से भगाने पर दूसरे खेतों में जा रहे हैं। किसानों ने कई बार जानवरों से छुटकारा पाने के लिए वन विभाग के अधिकारियों से बात की। लेकिन विभागीय अधिकारी इस पर कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। 

एक झुण्ड में बीस से तीस आवारा जानवर गाय, बछड़े, और सांड रहते है। ये झुण्ड गाँव के जिस तरफ के खेतों में जाता है, उधर की सारी फसल को चट कर जाता है। 

जिला मुख्यालय से 45 किमी दूर माल ब्लॉक के अन्तर्गत आने वाले गाँव रनीपारा, नारायनपुर, हरिहरपुर, चुकंडिया, पीरनगर, रामनगर, गुमसेना, दनौर, धनोरा समेत दर्जनों ऐसे गाँव है जहां के किसान गाय, सांड व बछड़ो और जंगली जानरों के झुण्ड की वजह से परेशान है। धान की खेती के शुरु होते ही किसानों ने अपना डेरा खेतों के किनारे डाल लिया है। लेकिन तब पर खेतों में कुछ नहीं बच रहा है।

रनीपारा गाँव के किसान जगरूप सिंह (55 वर्ष) बताते हैं, “आवारा और जंगली जानवरों ने हमारे खेत में अभी 10 दिन पहले लगाई गई धान की बेढ़ कुछ खा गए हैं और कुछ अपने पैरों से कुचलकर बर्बाद कर दिया है। जानवरों के झुण्ड के डर से गाँव के किसान रात में भी खेतों की रखवाली कर रहे हैं।”

गुमसेना के किसानों इन्दल कुमार (35 वर्ष) ने बताया कि जानवरों के आतंक से परेशान होकर ग्रामीण किसानों ने सभी आवारा जानवर गाय और सांडो को गाँव से बाहर वन विभाग की तरफ छोड़ आए थे। लेकिन दूसरे दिन फिर सभी जानवर वापस खेतों को चरते दिखे। यदि ऐसे ही रहा तो फसल तैयार करना बहुत मुश्किल हो जाएगा। 

रानीपरा क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) गौरव सिंह बताते हैं, “आवारा जानवर गाय, बछड़े, और सांड के झुण्ड की वजह से ग्रामीण किसानों को काफी समस्या हो रही है, जिसकी शिकायत मैंने पशुविभाग के अधिकारियों से की है। विभाग के अधिकारी ने जल्द समस्या का निराकरण करने का आश्वासन दिया है|” 

रिपोर्टर - सतीश कुमार सिंह

Tags:    India 
Share it
Top