फसल के ठूंठ जलाने पर पाबंदी को नहीं मान रहे पंजाब, हरियाणा के किसान

फसल के ठूंठ जलाने पर पाबंदी को नहीं मान रहे पंजाब, हरियाणा के किसानफसल अवशेष जलाने वाले 480 लोगों पर कार्रवाई हुई है।

चंडीगढ़ (भाषा)। हरियाणा और पंजाब के अधिकांश किसान राज्य सरकार द्वारा धान की फसल के ठूंठ जलाने को लेकर जारी चेतावनी को दरकिनार कर रहे हैं जिससे स्वास्थ्य को खतरा बढ़ गया है और मिट्टी को नुकसान पहुंच रहा है।

हरियाणा और पंजाब दोनों सरकारों ने धान के अवशेषों को जलाने पर प्रतिबंध लगा रखा है और ऐसा करने वाले किसानों के खिलाफ अधिकारियों द्वारा मुकदमा चलाया जा सकता है।

पर्यावरण विभाग के प्रधान सचिव सह हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष श्रीकांत वालगाडे ने बताया, ‘‘हम ठूंठ जलाने को एक गंभीर मुद्दा मानते हुये कार्रवाई कर रहे हैं। अब तक ठूंठ जलाते पाये जाने वाले 480 लोगों के खिलाफ हमने कार्रवाई शुरु की है।''

हालांकि, हरियाणा में करनाल जिला और पंजाब में पटियाला जिला सहित विभिन्न इलाकों से मिली खबरों के मुताबिक राज्य प्रदूषण बोर्डों और कृषि विभागों सहित अधिकारियों द्वारा धान के ठूंठ नहीं जलाने के लिए कहे जाने के बावजूद किसान अभी भी ऐसा कर रहे हैं। पिछले कुछ सालों में यह देखने को मिला है कि कृषि प्रधान इन दो राज्यों में जब ठूंठ जलाए जाते हैं तो प्रदूषण दिल्ली में प्रवेश कर जाता है जिसके कारण राष्ट्रीय राजधानी में वायु की गुणवत्ता प्रभावित होती है।

Share it
Top