Read latest updates about "खेती किसानी" - Page 1

  • एलाेवेरा के साथ सहजन की सहफसली खेती से किसानों को हो रहा फायदा

    बाराबंकी (उत्तर प्रदेश)। पारंपरिक खेती के दायरे से बाहर निकलकर बाराबंकी के किसानों ने इस बार औषधीय खेती की तरफ रुख किया है और एलोवेरा और सहजन जैसी सहफसली खेती करके मुनाफा कमा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिला मुख्यालय से 38 किमी. उत्तर दिशा में स्थित बेलहरा के प्रगतिशील किसान रमेशचंद्र...

  • छत्तीसगढ़ के इस आम किसान से सीखिए कृषि इंजीनियरिंग और खेती के तरीके

    धमतरी (छत्तीसगढ़)। जंगल और आदिवासियों की धरती छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है, लेकिन कुछ ऐसे भी क्षेत्र हैं जहां पर खेती करना कठिन काम है। कुछ ऐसे भी किसान हैं जिन्होंने अपनी मेहनत से ऊबड़-खाबड़, अनुपजाऊ जमीन को भी हरा-भरा बना दिया है।धमतरी जिला मुख्यालय से लगभग 45 किमी. दूर मगरलोड में कई...

  • खेती का तरीका बदल बाराबंकी का ये किसान काट रहा मुनाफे की फसल

    अरविंद शुक्ला/वीरेंद्र सिंह दौलतपुर (बाराबंकी)। कभी अमिताभ बच्चन की जमीन को लेकर सुर्खियों में रहने वाला गांव फिर चर्चा में है। चर्चा की वजह फिर खेत हैं, लेकिन इस बारे में बातें किसानों के बीच हो रही हैं। दौलतपुर गांव का एक किसान अपने खेतों में मुनाफे की फसल काट रहा है,जिसे देखने कई...

  • जानिए एक साल में ये किसान कैसे बना लखपति

    पूर्वी सिंहभूम (झारखंड)। एक साल में एक साधारण किसान लखपति कैसे बन सकता है अगर आपको ये जानना है तो झारखंड के इस किसान से जरुर मिलिए। ये किसान बिना मिट्टी के सब्जियों की नर्सरी लगाकर सालाना दो लाख रुपए कमा रहा है। पूर्वी सिंहभूम जिला मुख्यालय से लगभग 60 किलोमीटर दूर धालभूमगढ़ ब्लॉक के चीरूगोड़ा गाँव...

  • जल्द ही किसानों के उत्पाद बेचने में मदद करेगा इफको

    लखनऊ। 'गुणवत्ता में बेहतर और अच्छी मात्रा में अगर किसान कृषि उत्पाद चाहते हैं तो उन्हें 'मृदा परीक्षण' जरूर करानी चाहिए, क्योंकि पौधे को बढ़ने और और जीवन यापन के लिए लगभग 16 प्रकार के तत्वों की जरुरत होती है। जैसे-जैसे कृषि उत्पादों में इन तत्वों की कमीं हो रही है वैसे ही मानव शरीर में भी इन तत्वों...

  • इस एमबीए किसान से सीखिए खेती से कैसे कमा सकते हैं मुनाफा

    सीतापुर (उत्तर प्रदेश)। इस एमबीए किसान की खेती को देखने के लिए प्रदेश के कई हिस्सों से किसान आते हैं। यह किसान शुद्ध आर्गेनिक विधि से फलों कि खेती करता है। कम लागत में अच्छी उपज के साथ-साथ ऑर्गेनिक फलों की बाजार में कीमत भी अच्छी मिल रही है। उत्तर प्रदेश के सीतापुर जनपद से 10 किलोमीटर की दूरी पर...

  • हरे चारे के लिए मई में करें पैरा घास की बुवाई

    लखनऊ। गर्मियों में दुधारू पशुओं को हरा चारा मिलने में काफी समस्या होती है। ऐसे में पशुपालक पैरा घास खिलाकर अपने पशुओं को भरपूर मात्रा में हरा चारा दे सकते है। इस घास को लगाने में ज्यादा लगात भी नहीं आती है। पैरा घास या अंगोला (ब्रैकिएरिया म्यूटिका) एक बहुवर्षीय चारा है। पैरा घास को अंगोला घास...

  • उत्तराखंड में पलायन को रोकने के लिए दिव्या रावत बनीं 'मशरूम गर्ल'

    देहरादून। उत्तराखंड में हो रहे पलायन को रोकने के लिए कुछ सालों पहले एक लड़की ने लोगों को मशरूम की खेती करने का रास्ता दिखाया और आज हजारों की संख्या में लोग उसके साथ जुड़कर मशरूम की खेती कर रहे हैं। उत्तराखंड के चमोली गढ़वाल जिले में रहने वाली दिव्या रावत आज मशरूम गर्ल के नाम से मशहूर हैं। दिव्या...

  • अब गर्मी के मौसम में भी उगा सकते हैं दूधिया मशरूम

    लखनऊ। सर्दी के मौसम में मशरूम हर जगह उपलब्ध होता है, लेकिन गर्मी और बरसात के मौसम में पहले यह बाजार में मिलता ही नही, और मिलता भी है तो बहुत महंगा। लोगों को गर्मी के मौसम में आसानी से मशरूम मुहैया कराने के लिए केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, रहमानखेड़ा ने ग्रीष्म कालीन दूधिया मशरुम को रेडी टू...

  • रेडी टू फ्रूट बैग की मदद से गर्मियों में घर पर उगाएं दूधिया मशरूम

    लखनऊ। पिछले कुछ वर्षों में मशरूम का बाजार तेजी से बढ़ा है, ऐसे में अगर लोगों को घर में ही आसानी से मशरूम उगाने का सही तरीका मिल जाए तो और भी लोग मशरूम उगा सकते हैं। केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान ने दूधिया मशरूम की रेडी टू फ्रूट बैग तकनीकी संस्थान ने विकसित की है जिससे इसकी खेती आसान हो जाए।...

  • उत्तर प्रदेश में भी हो सकती है किन्नू की खेती, इस किसान से सीखिए

    सीतापुर (उत्तर प्रदेश)। अभी तक कहा जाता था कि किन्नू की खेती सिर्फ पंजाब, हिमाचल प्रदेश जैसे प्रदेश में हो सकती है, लेकिन सीतापुर जिले के इस किसान ने न केवल किन्नू की खेती शुरू की बल्कि बढ़िया मुनाफा भी कमा रहे हैं। सीतापुर जिले के औरंगाबाद के प्रगतिशील किसान उमेश मिश्रा (50 वर्ष) बताते हैं,...

  • गेंदा की खेती से किसान कमा रहे बेहतर मुनाफा

    सोनभद्र (उत्तर प्रदेश)। धान-गेहूं जैसी परंपरागत फसलों की खेती करने वाले किसान गेंदा की खेती से बढ़िया मुनाफा कमा रहे हैं। यही नहीं जल्द ही किसानों को गेंदा के प्रसंस्करण की भी जानकारी दी जाएगी। सोनभद्र जिले के सदर ब्लॉक के मानपुर गाँव के किसान बाबूलाल मौर्य ने गेहूं, धान, चना की खेती छोड़कर...

Share it
Top