अच्छी गुणवत्ता वाले दूध पाने के लिए पशुओं को खिला रहे जैविक चारा

अच्छी गुणवत्ता वाले दूध पाने के लिए पशुओं को खिला रहे जैविक चाराअच्छी गुणवत्ता वाला दूध के लिए किसान खिला रहे जैविक चारा पशुओं को।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। राकेश दुबे(45 वर्ष) ने पशुओं से अच्छी गुणवत्ता वाला दूध निकालने के लिए पशुओं को जैविक चारा खिला रहे हैं। इसके लिए वह खुद जैविक चारा तैयार कर रहे हैं। इसके साथ-साथ वह अपने गाँव के और आस-पास के किसानो को जैविक चारा उगाने के प्रेरित भी कर रहे है।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

फैजाबाद से 37 किमी. दूर बिरठौली ब्लॉक के बहराय मंजरा गाँव में राकेश के पास पांच हेक्टेयर खेत है, जिसमें से आधा हेक्टेयर में वह पशुओं के लिए चारा बोते हैं। राकेश बताते हैं, "पिछले चार वर्षों से हम जैविक हरा चारा उगा रहे हैं। इस चारे से दूध उत्पादन तो नहीं बढ़ाता, लेकिन दूध की गुणवत्ता काफी अच्छी है हो जाती है। इससे घी भी अच्छा बनता है।"

पिछले कुछ वर्षों में रासायनिक उर्वरकों पर निर्भर किसानों का रुझान जैविक खेती की तरफ बढ़ रहा है। कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) के अनुसार, प्रमाणित जैविक खेती के तहत खेती योग्य क्षेत्र पिछले एक दशक में तकरीबन 17 गुना बढ़ गया है। यह क्षेत्र वर्ष 2003-04 में 42,000 हेक्टेयर था, जो वर्ष 2013-14 में बढ़कर 7.23 लाख हेक्टेयर के स्तर पर पहुंच गया। उत्तर प्रदेश में 44670.10 हेक्टेयर में जैविक खेती हो रही है।

राकेश के पास 13 गाय हैं, जिनसे वह प्रतिदिन 15-16 लीटर दूध का उत्पादन करते हैं। राकेश पशुओं के लिए खुद तो जैविक हरा चारा उगा ही रहे है साथ ही आस-पास के लोगों को भी प्रेरित कर रहे है। राकेश बताते हैं, “जिनके पास पशु हैं उन्होंने देखा और दूध की गुणवत्ता को सुधारने के लिए आज वो भी जैविक हरा चारा उगा रहे हैं।”

राकेश ही नहीं बरेली जिले के भोजीपुरा ब्लॉक के मियांपुर गाँव में रहने वाले बंसी कुमार वर्मा (45) भी अपने पशुओं के लिए हरा चारा उगा रहे हैं। जैविक तरीके से हरा चारा उगाने की विधि के बारे में बंसी बताते हैं, “ गोमूत्र, गोबर, गुड़ और बेसन का घोल बनाकर हम खेत में छिड़काव करते हैं। इससे नीलगाय भी नहीं आती है।” किशोर के पास 20 भैंस हैं। हरा चारे खिलाने से पशुओं में पानी की कमी भी नहीं होती है और पशुओं के शरीर में जो त्वचा में रोग हो जाते हैं वो भी कम होते हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top