3 दिसंबर अब कृषि शिक्षा दिवस के रूप में मनेगा : राधा मोहन

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   4 Dec 2016 10:53 AM GMT

3 दिसंबर अब कृषि शिक्षा दिवस के रूप में मनेगा : राधा मोहनकृषि मंत्री राधा मोहन सिंह।

पूसा (बिहार) (आईएएनएस)| केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि तीन दिसंबर को अब हर साल कृषि शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाएगा।उन्होंने कहा कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय आने वाले दिनों में बिहार सहित पूरे देश की कृषि शिक्षा को नई दिशा और गति प्रदान करेगा।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, बिहार के स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर शनिवार को केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार देश में कृषि शिक्षा मजबूत करने के लिए लगातार काम कर रही है, क्योंकि कृषि की प्रगति और विकास, उच्च कृषि शिक्षा संस्थान और अनुसंधान संस्थानों पर निर्भर करती है।

उन्होंने कहा, "सरकार, विश्व बैंक के सहयोग से 1,000 करोड़ रुपए के साथ राष्ट्रीय कृषि शिक्षा परियोजना प्रारंभ करने जा रही है। इस योजना का उद्देश्य उत्कृष्टता के नए केंद्रों की स्थापना, पिछड़े राज्यों में कृषि शिक्षा को बढ़ावा, प्रशिक्षण के माध्यम से क्षमता विकास, एवं कृषि पाठ्यक्रम को आधुनिक बनाकर गुणवत्ता सुनिश्चित करना है।"

उन्होंने कहा, "मेड-इन-इंडिया, स्टार्ट-अप इंडिया, कौशल-भारत आदि परियोजनाओं पर जोर देने के साथ कृषि शिक्षा प्रणाली में सुधार की जरूरत है, ताकि कृषि संकाय के छात्रों को रोजगार मिले और कृषि तथा ग्रामीण क्षेत्रों की बदलती जरूरतों को पूरा किया जा सके।"

सिंह ने कहा, "राजेंद्र प्रसाद कृषि विश्वविद्यालय ने अब तक की अपनी यात्रा में अनेक सफलताएं हासिल की है, जिन्हें राज्य की कृषि में मील का पत्थर कहा जा सकता है। इनमें उत्पादकता, खेत से होने वाली आय में वृद्धि, संस्थान निर्माण, मानव संसाधन, नई तकनीकों का विकास, कृषि का विविधीकरण, नए अवसर पैदा करना तथा जानकारी के नए श्रोतों का विकास करना शामिल है।"

उन्होंने बताया कि डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के साथ ही देश में अब कुल केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालयों की संख्या तीन हो गई है। इंफाल और झांसी में भी केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top