किसानों ने ईजाद कर लिया गोभी का नया बीज

किसानों ने ईजाद कर लिया गोभी का नया बीजगाँव कनेक्शन

चकवारा (बिहार)। खेती को आय का साधन मानने वाले किसानों में से वैशाली जिले के कुछ किसानों ने सब्जी की खेती में नए प्रयोग कर गोभी के नए बीज का ईजाद कर हर जगह अपना परचम लहरा दिया है। 

बिहार के वैशाली जिले में गडंक नही के किनारे बसे गाँव चकवारा में 125 परिवार निवास बसे हैं जिसमें से दो लोग को छोड़कर बाकी सभी के आय का साधन सब्जी की खेती है। इसी खेती की बदौलत गांव के 99 प्रतिशत मकान पक्के बन गए हैं। यहां के किसानों द्वारा उत्पादित की हुई हाजीपुर अगात गोभी के बीज की मांग हर जगह है। 

चकवारा गांव निवासी संजीव कुमार एक प्रगतिशील किसान हैं। वो बताते हैं,“  यह किस्म सामान्य फूलगोभी की अपेक्षा पहले तैयार हो जाती है, जहां पर सामान्य गोभी के पौधे में 60 से 65 दिनों में फूल आ जाते हैं, वहीं हाजीपुर अगात में 40 से 45 दिनों में फूल आने लगते हैं। इसके पौधे में धूप-बारिश सहने की क्षमता ज्यादा होती है़।”

इसके फूल सफेद, ठोस और खुशबूदार होने के अलावा तीन से चार दिनों तक ताजा बने रहते है। संजीव आगे बताते हैं, “ हमारे परिवार में पारंपरिक बीज से गोभी की खेती चार पीढ़ियों से की जा रही है़, तीन एकड़ में खेती कर लाखों की आय हो जाती है।”

पुरस्कार और सम्मान

संजीव को इस नए प्रयास के लिए भारतीय सब्जी अनुसंधान परिषद, वाराणसी द्वारा 2009 के राष्ट्रीय सब्जी किसान मेला व प्रदर्शनी में रजत पदक  व प्रशस्ति-पत्र दिया गया़ था। 2010 में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली द्वारा उन्नत प्रौद्योगिकी व अन्य आधुनिक तकनीकों को अपना कर कृषि की उत्पादकता बढ़ाने के लिए प्रशस्ति  पत्र  दिया गया़। 2011 में अमित सिंह मेमोरियल फाउंडेशन, नई दिल्ली द्वारा उद्यान रत्न पुरस्कार से नवाजा गया।

रिपोर्टर - संदीप कुमार

Tags:    India 
Share it
Top