किशोर की मौत के मामले में 11 लोगों पर हत्या का मुकदमा

किशोर की मौत के मामले में 11 लोगों पर हत्या का मुकदमागाँव कनेक्शन

बाराबंकी। कोतवाली देवा के कुसुम्भा गाँव में 16 साल के किशोर की मौत के बाद गाँव में कोहराम मच गया है। आरोपी पुलिसकर्मियों समेत 11 लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। अभी तक सभी आरोपी फरार हैं।

पांच जनवरी को पूर्व प्रधान शिवनाथ यादव व मौजूदा ग्राम प्रधान पति संत कुमार गौतम के समर्थकों के बीच मारपीट हुयी जिसमें कोतवाली देवा पुलिस ने एक पक्षीय कार्यवाही करते हुए पूर्व प्रधान के समर्थक लक्ष्मीकान्त की तहरीर पर दूसरे पक्ष के लोगों पर रिपोर्ट दर्ज की थी। किसान नेता मुकेश सिंह बताते है, ''सात जनवरी को गाँव में पूर्व आरोपी ग्राम प्रधान शिवनाथ यादव ने पुलिस फोर्स के साथ ऐलान करवा दिया कि सभी लोग अपनी अपनी गिरफ़्तारी दे दें, नहीं तो घरों की कुर्की कर दी जाएगी। आठ जनवरी को पुलिस गाँव में दोबारा आ गयी और हारे हुए ग्राम प्रधान के साथ मिलकर लाठियां भांजनी शुरू कर दी। इस दौरान गाँव के रवी, कुलदीप, अंकित, मुकेश, विवेक भी भागने लगे।’’ 

कुलदीप का कहना है, ''पुलिस ने भागते हुए हम पर पहले तो डंडे बरसाए, उसके बाद जब हम वहां से उठकर दोबारा भागने लगे तो पुलिस वालों ने गोली मारने की धमकी दी। इस पर हम पांचों लोग पास के ही तालाब में कूद गए। पुलिस मौके पर बन्दूक ताने खड़ी रही। हम चारों तो किसी तरह तालाब से निकल गए लेकिन अंकित तालाब में डूब गया और उसकी मौत हो गई।’’

घटना की जानकारी मिलते ही जिले के पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद भी मौके पर जा पहुंचे जहां कोतवाल देवा को निलंबित करते हुए मृतक अंकित के पिता गुडान गुप्ता की तहरीर पर निलंबित कोतवाल भगौती प्रसाद, हल्का दरोगा जितेंद्र सिंह, सिपाही अशफाक, पूर्व ग्राम प्रधान शिवनाथ यादव, हांडा यादव, चन्द्र शेखर, सुशील, गुड्डू, गोटी, लक्ष्मीकांत एवं शैलेन्द्र के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करवा दिया है।

एसपी ने कोतवाली देवा में स्वाट टीम के जावेद खान को नया प्रभारी बनाया है। अपर जिलाधिकारी हरिकेश चौरसिया ने मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता देने के साथ-साथ मुख्यमंत्री राहत कोष से भी मदद दिलाने का भरोसा दिया गया है।

रिपोर्टर - सतीश कश्यप

Tags:    India 
Share it
Top