क्या देश द्रोह की धारा का बेजां इस्तेमाल हो रहा है ?

क्या देश द्रोह की धारा का बेजां इस्तेमाल हो रहा है ?गाँव कनेक्शन

लखनऊ। पूर्व न्यायमूर्ति राजेंद्र सच्चर ने देशद्रोह की धारा को समाप्त करने की वकालत की है। यूपी प्रेस क्लब में सोशलिस्ट पार्टी के 15 प्रत्याशियों की सूची जारी करते हुए उन्होंने राजनीतिक दलों के आम सहमति बनाकर मिजोरम में स्पेशल आर्म्स फोर्सस एक्ट हटाने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि अफजल गुरु को फांसी पर अचानक लटका दिया गया, नियम ये है कि फांसी से पहले परिवार को सूचित किया जाए। उन्होंने कहा, “देशद्रोह की धारा का दुरुपयोग राजनीतिक विरोधियों का उत्पीड़न करने के लिए किया जा रहा है। जेएनयू प्रकरण की निंदा करते हुए कहा, “कन्हैया के साथ सरकार ने जो व्यवहार किया वह निंदनीय है। इस सभी ने सियासत की। राहुल गांधी ने भी जेएनयू पहुंच कर सिर्फ राजनीति की।”

उन्होंने विजय माल्या प्रकरण को उठाते हुए कहा, “बैंकें ने 1.14 लाख करोड़ रुपए ऋण लेने वाली विभिन्न कम्पनियों का नाम सार्वजनिक करें ताकि उनसे ऋण वापसी की कार्रवाई की जा सके।” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भूजल स्तर तेजी से गिर रहा है। कई बड़ी कम्पनियां पानी का दोहन कर मोटा मुनाफा कमा रही है। उन्होंने पानी के दुरुपयोग पर रोकने के लिए स्वीमिंग पूल, कोका-कोला और पेप्सी आदि कम्पनियों को बंद करने को कहा।”

पत्रकारवार्ता को सम्बोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संदीप पांडेय ने केंद्र व प्रदेश सरकार से सच्चर समिति की रिपोर्ट को लागू करने की मांग की। उन्होंने बताया, “पार्टी विधानसभा चुनाव पूर्ण शराब बंदी के मुद्दे पर लड़ेगी।

Tags:    India 
Share it
Top