आलोचना मेरे लिए सामान्य है, आप सभी को संतुष्ट नहीं कर सकते: एआर रहमान 

आलोचना मेरे लिए सामान्य है, आप सभी को संतुष्ट नहीं कर सकते: एआर रहमान एआर रहमान 

पणजी (भाषा)। आलोचना प्रसिद्धि का एक अभिन्न अंग और हिस्सा है लेकिन ऑस्कर पुरस्कार संगीतकार एआर रहमान का कहना है कि इससे निपटने के लिए मेरा अपना एक तरीका है और वह है रचनात्मक काम में लगे रहना और शेष चीजों पर ध्यान नहीं देना।

रहमान ने बताया, ‘‘आलोचना महत्वपूर्ण है। लेकिन अगर आप हर किसी को संतुष्ट करना चाहते हैं तो आप किसी को संतुष्ट नहीं कर पाओगे। इसलिए आपको अपने संगीत को सामान्य जन की रुचि को देखकर बनाना चाहिए। जैसे कुछ लोग जैसा करते हैं दूसरे लोग उस जैसा करना पसंद नहीं करते हैं। आलोचना मेरे लिए रचनात्मकता जैसा है।''

उन्होंने बताया, ‘‘कभी-कभी आपको लगता है कि यह द्वेष के कारण हो रहा है इसके बावजूद मैं रचनात्मक लोगों की बात सुनने के लिए तैयार हूं। क्योंकि हम सभी लोग इंसान हैं हम सभी एक निश्चित दृष्टि के साथ कुछ बातों पर ध्यान केंद्रित करते हैं और कभी कभी हम कुछ बातों की अनदेखी करते हैं।'' रहमान (49) ने 1992 में ‘रोजा' फिल्म से अपने कैरियर की शुरुआत की थी और उसके बाद एक संगीतकार के रुप में उन्होंने कभी पीछे मुड कर नहीं देखा। उन्होंने बताया कि संगीत के प्रति उनका गहरा लगाव उन्हें इस मुकाम पर लाया है जहां पर वह आज हैं।

Share it
Top