‘खुल्लम खुल्ला’ से अभिनेता ऋषि कपूर ने खोले अपने जीवन के राज

‘खुल्लम खुल्ला’ से अभिनेता ऋषि कपूर ने खोले अपने जीवन के राजअपनी आत्मकथा ‘खुल्लम खुल्ला-ऋषि कपूर अनसेंसर्ड’ के विमोचन अवसर पर हिन्दी सिने जगत के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर, नीतू सिंह।

नई दिल्ली (आईएएनएस)| हिन्दी सिने जगत के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर का कहना है कि उन्होंने निजी जिंदगी को लेकर अपने और बेटे रणबीर कपूर के बीच हमेशा एक अंतर बनाए रखने की कोशिश की। हालांकि यह बात उनके अभिनेता बेटे रणबीर कपूर को पसंद नहीं आई और इसलिए वह उनके जैसा पिता नहीं बनना चाहते।

ऋषि ने अपनी आत्मकथा 'खुल्लम खुल्ला - ऋषि कपूर अनसेंसर्ड' के विमोचन अवसर पर यह बात कही। इस अवसर पर उनकी पत्नी नीतू सिंह और बेटी रिद्धिमा कपूर साहनी भी मौजूद थीं। आत्मकथा में ऋषि ने अपने निजी जीवन के कई खुलासे किए हैं। इसमें उन्होंने अपने पिता राज कपूर के साथ रिश्तों के बारे में भी बताया है।

मेरे पिता राज कपूर सिर्फ पिता नहीं, बल्कि गुरु भी थे। मैं आज जो कुछ हूं, उन्हीं की वजह से हूं। हम जब बच्चे थे तो जानते थे कि हम किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति के बच्चे हैं, क्योंकि हम जहां भी जाते थे, लोग हमें राज कपूर के बेटे के तौर पर देखते थे।
ऋषि कपूर अभिनेता (अपनी आत्मकथा ‘खुल्लम खुल्ला के विमोचन के अवसर पर)

उन्होंने कहा, "मैंने कभी अपने पिता के साथ बहस नहीं की और ऐसा ही मेरे और रणबीर के साथ भी हुआ। मैं हमारे बीच प्यार और सम्मान चाहता था।" उन्होंने कहा, "लेकिन मैं इस तरह का पिता नहीं था जो उससे (रणबीर) उसकी गर्लफ्रेंड और बाकी चीजों के बारे में जान सके। मुझे इसका खेद है।"

ऋषि ने बताया कि जब रणबीर छोटे थे तो वह काम में व्यस्त रहते थे, जिस वजह से वह नीतू के अधिक करीब रहे। उन्होंने कहा, "रणबीर को लगता है कि जब कभी उनके बच्चे होंगे, वह मेरे जैसे पिता नहीं बनेंगे। दरअसल, यह एक पीढ़ी का अंतर है। मैं बेटे का दोस्त नहीं हो सकता। आपको मुझे उसी रूप में स्वीकार करना होगा, जैसा मैं हूं।"

Share it
Top