प्रकाश झा की फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माइ बुर्का’ को सेंसर बोर्ड ने नहीं दी हरी झंडी, विवाद शुरू

प्रकाश झा की फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माइ बुर्का’ को सेंसर बोर्ड ने नहीं दी हरी झंडी, विवाद शुरूफिल्म लिपस्टिक अंडर माई बुर्का का पोस्टर।

लखनऊ। प्रकाश झा की नई आने वाली फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माई बुर्का' को सेंसर बोर्ड ने सर्टिफिकेट देने से मना कर दिया है। प्रकाश झा इस फिल्म के प्रोडयूसर है जबकि अलंकृता श्रीवास्तव निर्देशक हैं। 'लिपस्टिक अंडर माइ बुर्का' को मुंबई फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट फिल्म का ऑक्सफैम अवॉर्ड मिल चुका है और तोक्यो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में भी इसे द स्पिरिट ऑफ एशिया प्राइज दिया जा चुका है, लेकिन सेंसर बोर्ड को ये फिल्म रास नहीं आई।

मनोरंजन से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

फिल्म को पास नहीं करने के पीछे सेंसर बोर्ड का कहना है कि कहानी महिलाओं पर केंद्रित है और इसमें सामान्य जीवन से कहीं आगे की कल्पनाएं हैं। सेंसर बोर्ड का कहना है कि इसमें कई विवादास्पद सेक्सुअल सीन हैं, गालियों वाले शब्द हैं और सोसायटी के कुछ वैसे हिस्से को टच किया गया है जो काफी संवेदनशील है, इसलिए इसे पास नहीं किया गया।

सोशल साइटों पर शुरू हुआ विवाद

सेंसर के इस फैसले का बॉलीवुड ने कड़ा विरोध किया है। सोशल साइटों पर फिल्म के पक्ष में लिखा जा रहा है। विरष्ठ फिल्म निर्देशक श्याम बेनेगल ने कहा मैं इसके विरोध में हूं। किसी भी फिल्म को रिलीज से नहीं रोका जाना चाहिए। वहीं केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के सीईओ अनुराग श्रीवास्तव ने ट्वीट कर कहा कि हमने कुछ अलग नहीं किया है। निर्माता कानून कार्रवाई का सहारा ले सकते हैं। वहीं सीबीएफसी की ममता काले ने कहा कि फिल्म में बहुत ज्यादा गालियां हैं। इसे प्रमाणित नहीं किया जा सकता है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top