जगजीत सिंह, गज़ल के शहंशाह... 'बढ़ा के प्यास मेरी उसने हाथ छोड़ दिया'

जगजीत सिंह के बेटे विवेक की 18 साल की उम्र में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी, जिसकी वजह से उनकी पत्नी चित्रा सिंह गाना तक छोड़ दिया था।

जगजीत सिंह, गज़ल के शहंशाह... बढ़ा के प्यास मेरी उसने हाथ छोड़ दियाजगजीत सिंह के जन्मदिन पर आइये जाने उनके जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें।

लखनऊ। जगजीत सिंह जिन्हें बॉलीवुड में गजल के किंग के नाम से जाना जाता था। उनकी मखमली आवाज़ में वो जादू था कि आज भी लोग घंटों बैठे उनकी गज़ले सुना करते हैं। गज़ल को नई ऊंचाइयों तक ले जाने में जगजीत सिंह का बहुत बड़ा योगदान रहा।

जगजीत सिंह 1987 में बियोंड टाइम अलबम के साथ भारतीय संगीत के इतिहास में डिजिटल मल्‍टी ट्रैक रिकॉर्डिंग करने वाले वे पहले कंपोजर बने। आज ही के दिन गज़ल के शहंशाह जगजीत सिंह का जन्म हुआ था।

आइये जाने जगजीत सिंह के जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातें

1- जगजीत सिंह का जन्म 08 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्रीगंगानगर में हुआ था, जगजीत सिंह के पिताजी उन्हें बचपन में जगजीवन नाम से बुलाया करते थे लेकिन पिता के कहने पर उन्होंने अपना नाम बदलकर जगजीत सिंह रख लिया।

2- उन्होंने सरकारी स्कूल और खालसा कॉलेज से पढ़ाई की।

3- पढ़ाई के बाद जगजीत सिंह ने ऑल इंडिया रेडियो जालंधर में एक सिंगर और म्यूजिक डायरेक्टर के रूप में काम शुरू कर दिया। उसके बाद कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी हरियाणा से पोस्ट ग्रेजुएट की पढ़ाई भी की।

4- साइनिया घराने से ताल्‍लुक रखने वाले जगजीत सिंह ने उस्‍ताद जमाल खान से खयाल, ठुमरी, ध्रुपद जैसी गायन विधाओं में महारत हासिल की।

5- पंजाबी, हिन्‍दी, उर्दू, बंगाली, गुजराती, सिंधी और नेपाली भाषाओं में गजल गाने वाले जगजीत सिंह को 2003 में भारत के तीसरे सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान पद्म भूषण से अलंकृत किया गया।

6- मार्च 1965 में जगजीत सिंह अपने परिवार को बिना बताए मुंबई चले आए थे और स्ट्रगल शुरू कर दिया था। मुंबई में जगजीत सिंह की मुलाकात एक बंगाली महिला चित्रा दत्ता से हुई और दोनों 1969 में शादी के बंधन में बंध गए और इन्हें एक बेटा विवेक भी हुआ।

7- साल 1976 में जगजीत सिंह और चित्रा की एल्बम 'The Unforgettable' रिलीज हुई, जिसे काफी सराहा गया। इस एल्बम का गीत 'बात निकलेगी' काफी पसंद किया गया था और आज भी एक सुपर हिट गजल है।

8- जगजीत सिंह और चित्रा सिंह एक साथ कई सारे कॉन्सर्ट किया करते थे और अलग-अलग गजल एलबम का हिस्सा भी बने, इनका 1980 में आया हुआ एल्बम 'वो कागज की कश्ती' बेस्ट सेलिंग एल्बम बन गया था। उस जमाने में जगजीत सिंह गजल किंग बन गए थे।

9- प्राइवेट एल्बम के साथ-साथ जगजीत ने फिल्मों में भी कई गजलें गाईं , उनमें 'प्रेम गीत', 'अर्थ', 'जिस्म', 'तुम बिन', 'जॉगर्स पार्क' जैसी फिल्में प्रमुख हैं।

10- जगजीत सिंह के बेटे विवेक की मात्र 18 साल की उम्र में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी, जिसकी वजह से उनकी पत्नी चित्रा सिंह काफी दुखी सी रहने लगी थी, और एक वक्त के बाद उन्होंने गाना तक छोड़ दिया था।

11- साल 2011 में जगजीत सिंह को यूके में गुलाम अली के साथ परफॉर्म करना था लेकिन cerebral hemorrhage की वजह से उन्हें 23 सितम्बर 2011 को मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत बिगड़ती गई, जगजीत सिंह कोमा में चले गए और 10 अक्टूबर 2011 को जगजीत सिंह ने आखिरी सांसें ली।

Share it
Top