मुलायम ने अपनी ही पार्टी को कराया सच का सामना

मुलायम ने अपनी ही पार्टी को कराया सच का सामनाgaonconnection

लखनऊ। बात जनेश्वर मिश्र के संघर्ष से शुरू होती है और SP सरकार के कई मंत्रियों की निरंकुशता पर खत्म। SP सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव एक बार फिर से अपनी ही सरकार के सबसे बड़े आलोचक साबित हुए। जनेश्वर जयंती समारोह में उन्होंने अपने करीब आधे घंटे के भाषण में एक एक सच्चाई से रुबरु करवाया। अपनी ही पार्टी की कमियों को गिनाया। नेताओं की गाँवों से दूरी। महिलाओं और युवाओं की उपेक्षा। मंत्रियों और विधायकों का सचिवालय में जमावड़ा और मुख्यमंत्री तक प्रदेश की गलत तस्वीर रखने की सारी खरी-खरी नेता जी ने एक बार में सुना दी। मुलायम सिंह बोले जा रहे थे, नेता सकते में थे जबकि कार्यकर्ता जोश में तालियां बजाते रहे।

नेता जी पिछले चार साल में कम से कम छह बार अपनी ही सरकार को लेकर उंगली उठा चुके हैं। उनके निशाने पर सबसे अधिक विधायक और मंत्री ही रहे। यहां तक की कई बार उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भी नहीं बख्शा और उनको भी बेहतर काम करने की हिदायत भी दी। करीब दो महीने पहले SP कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने मंत्रियों को जमीन के धंधेबाजी में लिप्त हुआ कह कर सनसनी मचा दी थी। उन्होंने सभी को सुधर जाने की हिदायत दी थी।

IAS अफसरों पर एक्शन नहीं होता

मुलायम सिंह यादव ने इशारों इशारों मुख्यमंत्री अखिलेश पर इशारा करते हुए कहा कि जब मेरी सरकार थी तब मैं काम न करने वाले IAS अफसरों को सस्पेंड करता था। उन पर कड़ी कार्रवाई की जाती थी, मगर अब ऐसा नहीं होता है। इससे भी अफसर बेलगाम हो रहे हैं।

हमने 11 महीने की मेहनत से बनाई थी सरकार

बोले 1988 में हमने पार्टी थी। 11 महीने में हमारी पूर्ण बहुमत की सरकार राज्य में बनी थी। मैंने जनेश्वर मिश्र ने बहुत मेहनत की थी। गाँव-गाँव जाते थे। जाने कितनी ही बार रात में खाना नहीं खाया। सुबह होते ही किसी नहर में नहा लेते थे। फिर प्रचार में जुट जाते थे। पार्टी ऐसे खड़ी की गई है। मगर अब नेता आरामतलब हो चुके हैं।

कार्यकर्तोओं से पूछा नेताओं का हाल

मुलायम सिंह यादव ने यहां कार्यकर्ताओं से नेताओं का हाल पूछा। बोले आप बताइये मंत्री आपसे मिलते हैं। कार्यकर्ताओं ने न में जवाब दिया। इस पर नेता जी ने मंत्रियों की ओर निगाह तिरछी की।

मंडल स्तर 18 जनसभाएं करेंगे मुलायम

बाद में उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि मैं मंडल स्तर पर 18 जनसभाएं विधानसभा चुनाव में करूंगा। कार्यकर्ता मुझे सलाह दें कि कहां पर जनसभा हों। जहां से ज्यादा डिमांड आएगी, वहां पर सभा होगी।

जीतने वाले को देंगे टिकट

नेता जी ने स्पष्ट किया कि न रसूख, न पिछली जीत कोई आधार नहीं होगा। जिसकी जीत की गारंटी जनता देगी। जो प्रतिक्रिया क्षेत्रों आएगी, उसी के आधार पर इस बार सपा टिकटों का वितरण करेगी। इसमें को लागलपेट नहीं होगी।

रिपोर्टर- ऋषि मिश्र

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top