Top

नेहरू ऊर्जा उद्यान बना कूड़ाघर

नेहरू ऊर्जा उद्यान बना कूड़ाघरgaonconnection

पीलीभीत। जनपद मुख्यालय पर मात्र एक पार्क नेहरू ऊर्जा उद्यान की दशा काफी दयनीय है जो टनकपुर रोड पर स्थित है। यह पार्क सन् 16 जनवरी 1990 में तत्कालिक जिलाधिकारी जय शंकर मिश्र के काफी प्रयासों के बाद बना था। उस समय क्षेत्रीय सांसद व केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री श्रीमती मेनका गांधी ने इस पार्क का उद्घाटन किया था। जो अब रखरखाव के अभाव में कूड़ाघर बन गया है।

सुबह शाम घूमने वालों का तांता इस पार्क में लगा रहता था, लेकिन कुछ समय बाद ही उचित रख-रखाव के अभाव में इस पार्क की दशा खराब होना शुरू हो गयी। पार्क के चारों तरफ बड़ी-बड़ी घास खड़ी हो गयी। बारिश के मौसम में पार्क में जलभराव हो जाता है। इसी जल भराव के कारण इस पार्क की बाउन्ड्री वाल प्रतिवर्ष गिरती रहती है। इस पार्क पर असामाजिक लोगों का जमावड़ा रहता है। जब क्षेत्रीय लोगों ने इसको पुनः खोलने की मांग उठायी तो इस पार्क के रख-रखाव की जिम्मेदारी सामाजिक वानिकी वन विभाग पीलीभीत को दे दी गयी।

सामाजिक वानिकी विभाग भी इस पार्क की देख-रेख उचित तरीके से नहीं कर सका। अभी कुछ समय पूर्व जनपद में तैनात जिलाधिकारी मासूम अली सरवर के प्रयास से इस पार्क का सौन्दर्यकरण कराया गया जिस पर लाखों रुपये खर्च किये गये। इस वर्ष पार्क में फुटपाथ व जो अन्य कार्य कराया गया वह आवास विकास परिषद पीलीभीत के द्वारा कराया गया, लेकिन फुटपाथ बनाने के पूर्व इस वात पर विचार नहीं किया गया कि जो फुटपाथ बनाया जा रहा है वह इतनी गहराई में है कि बारिश का पानी फुटपाथ पर आ जाता है।

इसके साथ-साथ फुटपाथ के बगल में कुछ दूरी पर स्ट्रीट लाइटें भी लगाई गयी है जिनमें अभी तक बिजली के कनेक्शन का कार्य नहीं किया गया। जिसके कारण फुटपाथ पर अंधेरा पसरा रहता है। जिन स्थानों पर बच्चों के झूलने के लिये झूले लगाये गये वह स्थान भी इतना नीचा है जो बारिश में डूब जाते हैं। अब देखना यह है कि लाखों रुपये खर्च करने के बाद भी नगर निवासी किस प्रकार इस पार्क का आनन्द ले सकेंगे।

रिपोर्टर - अनिल चौधरी

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.