फिर छपने लगे कश्मीर घाटी में स्थानीय अख़बार

फिर छपने लगे कश्मीर घाटी में स्थानीय अख़बारgaonconnection

श्रीनगर (भाषा)। कश्मीर में अख़बारों का प्रकाशन न होने का मुद्दा सुलझ गया है। गुरुवार को अख़बारों ने प्रिंटिंग दोबारा शुरू कर दी।

मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के घाटी से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों के संपादकों और मालिकों से मुलाकात करने और मीडिया पर पाबंदियों को लेकर खेद जताए जाने के एक दिन बाद कश्मीर घाटी में गुरुवार को पांच दिनों के बाद प्रकाशन फिर से शुरु हो पाया।

सरकार द्वारा कथित तौर पर प्रतिबंधित समाचार पत्रों सहित अधिकांश स्थानीय समाचार पत्र आज प्रकाशित हुए। साथ ही समाचार पत्र वितरक और हॉकर अपने कामों पर लौट गये।

समाचार पत्र के एक वितरक ने बताया, ‘‘यह अच्छा है कि समाचार पत्रों का प्रकाशन एक बार फिर शुरु हो गया। हम ना केवल व्यापारिक दृष्टिकोण से खुश हैं बल्कि इससे घाटी की तथ्यात्मक सूचना का भी प्रसार होगा जहां पर अफवाहों का बाजार गर्म है।''

पुलिस द्वारा कथित तौर पर कुछ प्रिंटिंग संस्थानों पर छापेमारी और समाचार पत्रों की जब्ती के साथ प्रिंटिंग प्रेस के कर्मचारियों को हिरासत में लिये जाने की घटना के बाद शनिवार से घाटी में अंग्रेजी, उर्दू या कश्मीरी किसी भी भाषा में समाचार पत्रों का प्रकाशन नहीं हो रहा था।

पुलिस की कार्रवाई के बाद, कश्मीर स्थित समाचार पत्रों के संपादकों, प्रिंटर्स और प्रकाशकों ने शनिवार को एक बैठक का आयोजन किया था जिसमें उन्होंने सरकार द्वारा प्रतिबंध नहीं हटाने और माफी नहीं मांगने तक अपना प्रकाशन बंद रखने का निर्णय लिया।

Tags:    India 
Share it
Top