पंजाब और हरियाणा में घटा कपास का रकबा

पंजाब और हरियाणा में घटा कपास का रकबाgaonconnection, पंजाब और हरियाणा में घटा कपास का रकबा

चंडीगढ़ (भाषा)। कीटों के हमले को रोकने के लिए फसल की समय पर बुवाई के लिए किसानों को प्रेरित किये जाने के बावजूद पंजाब और हरियाणा में कपास खेती का रकबा लक्षित रकबे से काफी कम रहा है।

पंजाब में अभी तक कपास की बुवाई 2.08 लाख हेक्टेयर में की गई है जबकि लक्ष्य पांच लाख हेक्टेयर का था। पड़ोसी राज्य हरियाणा में 6.20 लाख हेक्टेयर के लक्ष्य के मुकाबले अभी तक 65 प्रतिशत में ही बुवाई हुई है।

पिछले वर्ष व्हाईट फ्लाई कीट के हमले के कारण भारी नुकसान होने के बाद दोनों राज्यों के कृषि विभाग ने चालू सत्र में कपास किसानों को 15 मई तक बुवाई का काम पूरा कर लेने को कहा जो इसकी खेती का आदर्श समय माना जाता है क्योंकि 15 मई के बाद की बुवाई से फसल में कीटों के हमले की संभावना बढ़ जाती है।

अधिकारियों ने बुवाई के लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाने का कारण किसानों द्वारा कपास के मुकाबले धान, दलहनों जैसी फसलों को अधिक तरजीह देना और नहर के पानी की अनुपलब्धता को बताया।

कृषि विशेषज्ञों का मानना है कि पंजाब में इस फसल की खेती का रकबा पांच लाख हेक्टेयर के लक्ष्य के मुकाबले 3.30 लाख हेक्टेयर ही रह जायेगा। पिछले साल पंजाब में 4.50 लाख हेक्टेयर में कपास की खेती हुई थी। हरियाणा में बुवाई 5.50 लाख हेक्टेयर पहुंच सकती है जबकि लक्ष्य 6.20 लाख हेक्टेयर का रखा गया था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top