पॉलीहाउस खेती में बढ़ा किसानों का रुझान

पॉलीहाउस खेती में बढ़ा किसानों का रुझानगाँव कनेक्शन

बाराबंकी। किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधारने और जल संरक्षण की दिशा में कदम बढ़ाते हुए सरकार किसानों को पॉली हाउस में खेती करने के लिए प्रेरित कर रही है। पॉलीहाउस में किसी भी मौसम में किसी भी प्रकार की सब्जी की खेती करके लाभ कमाया जा सकता है,इसका लाभ जिले के किसान उठा रहे हैं।

बाराबंकी जिला मुख्यालय से दक्षिण दिशा में लगभग  नौ किलोमीटर दूर ग्राम कमरपुर सरैया के 38 वर्षीय सुधीर सिंह सरकारी नौकरी छोड़ खेती कर रहे हैं।

सुधीर ने 2,015 से 4,000 वर्ग मीटर मे पॉली हॉउस में जरबेरा की खेती की शुरुआत की है।

सुधीर सिंह बताते हैं, ''मैंने नौकरी के बजाए खेती करना बेहतर समझा। हमें अब यह पता है कि अगर तकनीकी खेती की जाए, तो वह किसी भी नौकरी से कम नहीं होती है।'' वो आगे बताते हैं कि खेती के साथ मैंने 50 पशुओं की डेरी और 29000 छमता का पोल्ट्री फार्म भी लगा रखा हैं, जो मुझे सरकारी नौकरी से बेहतर आमदनी दिला रहा है।''

बाराबंकी जिले में आधुनिक ढंग से की जा रही है खेती के बारे में जिला उद्यान अधिकारी जय करन सिंह ने गाँव कनेक्शन को बताया,''बाराबंकी मे अबतक लगभग एक दर्जन किसानों ने 27,500 वर्ग मीटर में पॉलीहाउस लगवाया है।’’

बाराबंकी मुख्यालय के पूर्वोतर लगभग 30 किलोमीटर  दूर ग्राम बेरिया के संदीप वर्मा (40) ने एलेक्ट्रिकल से बीटेक की पढ़ाई की है पर वो नौकरी के  बजाए पाली हाउस में खेती करते हैं। अपनी खेती के बारे में संदीप बताते हैं, ''हमने 73,000 वर्ग मीटर मे पॉलीहॉउस लगवाया हैं ,जिसमे हम जरबेरा की खेती करते हैं। हम तीन भाई हैं ,जिसमे मैं सबसे बड़ा हूं और हमारे यहां कोई नौकरी नहीं करता है। सभी बिजनेस करते हैं पर मैंने आधुनिक खेती को चुना जो कि काफी फायदेमंद साबित हो रही है।''

''यह किसानों की जागरूकता का ही परिणाम हैं कि हमारे पास हाल ही में 16,000 वर्ग मीटर के पाली हॉउस लगवाने के आवेदन आ चुके हैं, जिनका अनुदान स्वीकृत के  लिये मुख्यालय भेजना है।'' जिला उद्यान अधिकारी ,जय करन सिंह आगे बताते हैं।

रिपोर्टर - रविन्द्र वर्मा

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top