प्रधानमंत्री की आवाज़ दबाई नहीं जा सकती: जेटली

प्रधानमंत्री की आवाज़ दबाई नहीं जा सकती: जेटलीgaonconnection, प्रधानमंत्री की आवाज़ दबाई नहीं जा सकती: जेटली

नई दिल्ली। अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदा विवाद में कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ प्रधानमंत्री की कथित टिप्पणी को लेकर मुख्य विपक्षी दल के निशाने पर आई सरकार ने आज पलटवार करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रधानमंत्री की आवाज को दबाया नहीं जा सकता।

राज्यसभा की बैठक शुरू होने पर कांग्रेस के लक्ष्मण शांताराम नाइक ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का एक नोटिस दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी और पर्रिकर ने संसद के बाहर यह ‘झूठ’ बोला है कि हेलीकॉप्टर सौदे में संप्रग अध्यक्ष ने दलाली ली।

उच्च सदन में जब नाइक ने अपने विशेषाधिकार हनन नोटिस के बारे में कुरियन से जानना चाहा तब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि एक राजनीतिज्ञ द्वारा संसद के बाहर दूसरे राजनीतिज्ञ के खिलाफ दिए गए चुनावी भाषण को अब विशेषाधिकार हनन बताया जाने लगा है। संसद के बाहर दिया गया राजनीतिक भाषण केवल ‘प्रचार’ के लिए होता है।

तमिलनाडु में एक चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की, इतालवी अदालत द्वारा कथित रूप से कांग्रेस अध्यक्ष का नाम लिए जाने संबंधी टिप्पणी को लेकर कांग्रेस ने कल उन पर आरोप लगाया था कि उन्होंने रक्षा मंत्री द्वारा संसद में अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदा मुद्दे पर चर्चा के बाद दिए गए जवाब से विरोधाभासी बयान दिया है। कांग्रेस सदस्यों ने प्रधानमंत्री से सदन में आ कर स्थिति स्पष्ट करने और अपनी टिप्पणी वापस लेने की मांग की थी और उनके हंगामे के कारण उच्च सदन में कोई कामकाज नहीं हो पाया था।

उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री को संसद में और संसद के बाहर भ्रष्टाचार पर बोलने का अधिकार है और उनकी आवाज दबाई नहीं जा सकती।" 

कांग्रेस के आनंद शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री चाहे वह संसद में बोलें या संसद के बाहर, चाहे वह देश में बोलें या देश के बाहर, वह प्रधानमंत्री ही होते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने ही रक्षा मंत्री के बयान से विरोधाभासी बयान दिया है।

Tags:    India 
Share it
Top