प्रत्यूषा खुदकुशी मामले में ब्वॉयफ्रेंड राहुल राज से पूछताछ

प्रत्यूषा खुदकुशी मामले में ब्वॉयफ्रेंड राहुल राज से पूछताछgaonconnection

मुंबई (भाषा)। टीवी अभिनेत्री प्रत्यूषा बनर्जी खुदकुशी मामले में मुंबई पुलिस ने उनके ब्वॉयफ्रेंड राहुल राज सिंह से शनिवार को पूछताछ की। टीवी धारावाहिक बालिका वधू में आनंदी के किरदार से घर-घर में लोकप्रिय हो चुकी 24 साल की अभिनेत्री शुक्रवार शाम अपने फ्लैट में पंखे से लटकी हुई मिली थीं।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ''खुदकुशी मामले में हम लोग राहुल का बयान दर्ज कर रहे हैं। हम लोग आखिरी कॉल डिटेल्स और एक-दूसरे को भेजे गये संदेशों की जांच भी कर रहे हैं।''

पुलिस ने बताया कि राहुल को हिरासत में नहीं लिया गया है। उसे गोरेगांव के सिद्धार्थ म्युनिसिपल अस्पताल में लाया गया जहां अभिनेत्री का पोस्टपार्टम किया जा रहा है। मृतक के माता-पिता भी शव को लेने के लिए जमशेदपुर से अस्पताल पहुंच गये हैं। पुलिस के अनुसार प्रथम दृष्टया अभिनेत्री ने अपने घर में कल शाम करीब पांच बजे के आसपास कथित तौर पर खुदकुशी कर ली, जिसके बाद उसके दोस्त द्वारा उसे अंधेरी के कोकिलाबेन अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

उन्होंने बताया कि फ्लैट से कोई सुसाइड नोट भी बरामद नहीं किया गया। पुलिस ने साथ ही बताया कि पोस्टमार्टम के बाद ही मौत की असली वजह की जानकारी मिल सकेगी। खबरों के मुताबिक सिंह के साथ अपने रिश्ते को लेकर टीवी अभिनेत्री परेशान थी। प्रत्यूषा झारखंड के जमशेदपुर की रहने वाली थीं। उनकी राहुल से मुलाकात जमशेदपुर में ही एक पार्टी के दौरान हुई। दूसरी ओर, कुछ साथी कलाकार ये मानने को तैयार नहीं हैं कि प्रत्यूषा ने आत्महत्या कर ली है।

बिग बॉस के प्रतियोगी रहे एजाज खान ने तो साफ तौर पर कहा कि प्रत्यूषा की हत्या की गई है, क्योंकि वो आत्महत्या कर ही नहीं सकती। प्रत्यूषा की मौत की खबर के बाद पूरे  टीवी जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। उनकी साथी कलाकार काम्या पंजाबी ने मौत की खबर की पुष्टि‍ करते हुए कहा कि वो इस वक्त कुछ भी बोलने-समझने की हालत में नहीं हैं। उनके करीबी बताते हैं कि इन दिनों उनका व्यवहार भी चिड़चिड़ा हो गया था।

जनवरी में उन्होंने चार पुलिस वालों पर जबरन उनके घर में घुसने और बदतमीजी करने का भी आरोप लगाया था। बेटी की खुदकुशी की खबर मिलते ही पिता शंकर बनर्जी और मां सोमा बनर्जी मुंबई रवाना हो गए। साल 2010 में प्रत्यूषा के बालिका वधु के किरदार के तौर पर चुने जाने पर उनके पिता ने कहा था, ''ये उन बच्चों के आशीर्वाद का फल है, जिनकी जिंदगी वो बदलने की कोशिश कर रहे हैं।'' शंकर बनर्जी ने बेटी की इस सफलता को अपने एनजीओ के नाम समर्पित किया था। व्हाट्सएप पर प्रत्यूषा का आखिरी स्टेट्स था, ''मरके भी मुंह ना तुझसे मोड़ना।''

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top