यूपी में भाजपा के लिए स्वर्णिम अध्याय लिखने वाला साल रहा 2017

यूपी में भाजपा के लिए स्वर्णिम अध्याय लिखने वाला साल रहा 2017बीजेपी।

लखनऊ (भाषा)। देश के राजनीतिक परिदृश्य में अत्यंत महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश में साल 2017 में भारतीय जनता पार्टी कदमदरकदम विजय चूमती रही और साल के शुरु में विधानसभा चुनावों के साथ जीत का जो सिलसिला उसने शुरु किया था, वर्ष के अन्त में नगर निकाय चुनावों तक वह कायम रहा। वर्ष 2017 का साल उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए स्वर्णिम अध्याय लिखने वाला रहा।

इसी वर्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय के रुप में भाजपा को नया प्रदेश अध्यक्ष मिला। पाण्डेय चंदौली लोकसभा सीट से सांसद हैं। उनसे पहले केशव प्रसाद मौर्य भाजपा प्रदेश अध्यक्ष थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मदद के लिए दो उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा मिले। योगी, मौर्य और शर्मा तीनों इस समय विधान परिषद सदस्य हैं। वर्ष 2017 विरोधी पार्टियों के विधायकों के भाजपा में शामिल होने का भी प्रत्यक्षदर्शी बना।

ये भी पढ़ें - छत्तीसगढ़ चुनाव पर सुगबुगाहट, क्या किसान का बेटा चौथी बार हासिल कर सकेगा सत्ता?

साल की शुरुआत में हुआ विधानसभा चुनाव भाजपा ने अपना दल (सोनेलाल) और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ मिलकर लड़ा और राज्य के राजनीतिक इतिहास में नया अध्याय जोड़ दिया। भाजपा कुल 384 सीटों पर लड़ी जिसमें से उसे 312 सीटों पर जीत मिली। केवल पांच विधानसभा सीटें ऐसी रहीं, जहां भाजपा प्रत्याशियों की जमानत जब्त हुई। पार्टी का मत प्रतिशत (जिन सीटों पर वह लड़ी) 41.57 फीसदी रहा।

भाजपा और उसके सहयोगियों ने 403 सदस्यीय विधानसभा में 325 सीटों पर जीत हासिल की। भाजपा की सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) ने नौ और भारतीय समाज पार्टी (सुहेलदेव) ने चार सीटों पर जीत दर्ज की। उत्तर प्रदेश के 2017 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो उसका मत प्रतिशत 41.57 फीसदी रहा, जो 2012 में 15.21 फीसदी ही था, जब भाजपा केवल 47 सीटें ही जीत सकी थी।

ये भी पढ़ें - विजय रुपाणी फिर गुजरात के मुख्यमंत्री और नितिन पटेल उपमुख्यमंत्री चुने गए

पूर्व के चुनावों के विपरीत इस बार भाजपा ने घोषणापत्र नहीं बल्कि लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी किया। इसमें पार्टी के सत्ता में आने की स्थिति में किये जाने वाले कार्यों और योजनाओं का उल्लेख था। सत्ता में आते ही भाजपा सरकार ने अयोध्या और मथुरावृन्दावन को नगर निगम बनाने का फैसला किया।

तीन चरणों में हुए नगर निकाय चुनावों में भाजपा का दमदार प्रदर्शन रहा। महापौर की 16 में से 14 सीटें भाजपा की झोली में गयीं। इनमें लखनऊ, इलाहाबाद, वाराणसी, गोरखपुर की महत्वपूर्ण सीटें शामिल हैं। वाराणसी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र है जबकि लखनऊ से केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह सांसद हैं। गोरखपुर योगी का क्षेत्र रहा है।

ये भी पढ़ें - BJP ने गुजरात में पूरी की सेंचुरी, विधायक रतन सिंह राठौड़ ने दिया समर्थन

इस वर्ष के मेयर चुनावों में लखनऊ को सौ साल में पहली बार महिला महापौर मिलीं। अयोध्या तथा मथुरावृन्दावन को भी पहला महापौर भाजपा का मिला। भाजपा के महापौर प्रत्याशी अलीगढ़ और मेरठ में हारे, जहां बसपा ने उसे पराजित किया। राज्य में कुल 1300 पार्षदों में से 596 भाजपा के बने। नगर पालिका परिषद के चेयरमैन की बात करें तो 198 सीटों में से 70 पर भाजपा जीती। नगर पंचायत अध्यक्ष पद के चुनावों में 438 में से 100 सीटें भाजपा के हिस्से गयीं। विधान परिषद के लिए निर्विरोध निर्वाचित होने के साथ ही योगी प्रदेश के लगातार तीसरे ऐसे मुख्यमंत्री बन गये जो उच्च सदन के सदस्य हैं।

ये भी पढ़ें - मध्य प्रदेश सरकार को उखाड़ फेंकने तक नहीं पहनूंगा फूलों की माला : सिंधिया

Share it
Top