महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे

महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव: चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के कार्यक्रमों की घोषणा कर दी है। दोनों राज्यों में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होंगे, जबकि तीन दिन बाद 24 अक्टूबर को इसके नतीजे आएंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि दीवाली के त्योहार से पहले चुनाव की पूरी प्रक्रिया खत्म हो जाएगी।

महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजेचुनाव कार्यक्रमों की घोषणा करते मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा (फोटो सोर्स- एएनआई ट्वीटर)

चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के कार्यक्रमों की घोषणा कर दी है। दोनों राज्यों में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होंगे, जबकि तीन दिन बाद 24 अक्टूबर को इसके नतीजे आएंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि दीवाली के त्योहार से पहले चुनाव की पूरी प्रक्रिया खत्म हो जाएगी।

दोनों राज्यों में चुनावों की अधिसूचना 27 सितंबर को जारी होगी। इसके बाद से प्रत्याशी अपना नामांकन दाखिल कर सकेंगे। नामांकन की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर होगी। नामांकन पत्रों की जांच 5 अक्टूबर होगी। कोई भी प्रत्याशी अगर अपना नामांकन वापिस लेना चाहे तो वह 7 अक्टूबर तक अपना नाम वापिस ले सकता है। चुनाव प्रचार का आखिरी दिन 19 अक्टूबर होगा।

इसके बाद 21 अक्टूबर को दोनों राज्यों में मतदान होगा। मतगणऩा 24 अक्टूबर को होगी और 24 अक्टूबर की देर रात तक नतीजे आ जाएंगे। चुनाव कार्यक्रमों की घोषणा होने के साथ ही दोनों राज्यों में आचार संहिता लागू हो गई है। इन दोनों राज्यों में वर्तमान में बीजेपी का शासन है।



महाराष्ट्र में 288 विधानसभा की सीटें हैं। 2014 में हुए चुनाव में बीजेपी ने यहां 122 सीटें जीती थीं जबकि शिवसेना को 63 सीटों पर विजय मिली थी। बाद में इन दोनों पार्टियों ने मिलकर सरकार बनाई थी। इस बार भी देखना दिलचस्प होगा कि ये दोनों सहयोगी पार्टियां एक साथ चुनाव लड़ती हैं या अलग-अलग।

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना की मुख्य प्रतिद्वंदी कांग्रेस और एनसीपी हैं, जो कि एक साथ चुनाव लड़ रही हैं। दोनों पार्टियों में सीटों के बंटवारे पर समझौता भी हो चुका है। 2014 में कांग्रेस ने 42 और एनसीपी ने 41 सीटों पर जीत हासिल की थी।

वहीं हरियाणा में 90 विधानसभा सीटें हैं। बीजेपी ने यहां 2014 में 47 सीटें जीतने में कामयाब रही थी जबकि कांग्रेस को सिर्फ 17 सीटें ही मिली थीं। इस बार बीजेपी ने यहां पर 'मिशन 75' का लक्ष्य रखा है। हालांकि मनोहर लाल खट्टर की नेतृत्व वाली राज्य बीजेपी इकाई को इस बार कांग्रेस और इंडियन नेशनल लोकदल (आईएनएलडी) से कड़ी टक्कर मिलने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें- किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार का एजेंडा, अगले एक साल में एफपीओ समेत इन 10 कामों पर रहेगा फोकस

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top