सांसों में ज़हर घोल रही चीनी मिल

सांसों में ज़हर घोल रही चीनी मिलगाँव कनेक्शन

पीलीभीत। नगर से सटे ग्रामीण क्षेत्रों के घरों की छतों पर काली राख साफ देखी जा सकती है। ग्रामीण एलएच शुगर मिल से निकलने वाले धुएं से परेशान हैं। जहां एक ओर मिल से निकलने वाले धुएं से लोगों के घरों में गंदगी फैल रही है वहीं दूसरी तरफ लोगों में खांसी व सांस की बिमारियां हो रही है। 

गाँव कनेक्शन के संवाददाता ने जब फैक्ट्री के आसपास घरों का दौरा किया तो ग्रामीणों की छतों पर राख के ढेर लगे मिले। कृष्णलोक कॉलोनी निवासी अशोक कुमार त्यागी के मकान की छत पर काफी राख इकट्ठा है। अशोक कुमार बताते हैं, ''फैक्ट्री के धुएं से बारीक कण काली राख के रूप के आते हैं, जो पूरी छत पर फैलते हैं, जिससे सांस लेने में कठिनाई महसूस होती है।"

मिल के नज़दीक स्थित गौहनियां गाँव के निवासी उमेश कुमार ने बताया, ''घरों की छतों व आंगन में काफी राख इकट्ठा हो जाती है, कई बार घर से बाहर निकलने पर इस राख के कण आंखों में पड़ जाते हैं,जो आंखों को नुकसान पहुंचाते हैं।"

फैक्ट्री के इसी रास्ते से नगर के कई स्कूलों के बच्चे पढ़ने जाते हैं, जहां फैक्ट्री में आने वाले गन्ना लदे ट्रकों से जाम लगा रहता है। गन्ना लदे ट्रकों के शहर के बीचोंबीच से गुज़रने पर कई बार बड़ी-बड़ी दुर्घटनाएं भी होती हैं, जिसमें कई लोगों की जानें भी जा चुकी हैं।

''हवा में खुले राख के बारीक कण सांस के साथ शरीर में चले जाते हैं, जिससे अधिकतर ग्रामीणों में सांस की बीमारियां हो जाती हैं। एलएच शुगर फैक्ट्री के पीछे की ओर फैक्ट्री द्वारा गन्दे नाले के माध्यम से ज़हरीले पानी का निकास किया जाता है, जिससे खेतों में चरने वाले पशु पानी को पी लेते हैं। इससे उन पशुओं में तरह-तरह की बीमारियां हो रही हैं।" उमेश आगे बताते हैं।

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार कोई भी गन्ना फैक्ट्री नगर के बीच में स्थित नहीं होनी चाहिए, जबकि एलएच शुगर फैक्ट्री नगर के बीचोबीच धड़ल्ले से चल रही है।

इस बारे में जब एलएच शुगर फैक्ट्री के प्रधान प्रबन्धक अजय भट्ट बताते हैं, ''हमने अपने प्लान्ट से इस तरह से उपकरण लगा रखे हैं कि फैक्ट्री से निकलने वाले धुएं में राख के कण नष्ट हो जाते हैं।"

इलाकों में मिल की वजह से हो रही परेशानी के बारे में नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अजय वर्मा ने बताया, ''इस बारे में मेरी जानकारी में कोई शिकायत नहीं आई है, अगर वास्तव में फैक्ट्री के धुएं में राख के बारीक कण निकल रहे हैं और किसी पीड़ित व्यक्ति द्वारा मुझे शिकायत की जाती है, तो हम पर्यावरण विभाग के सहयोग से मिल का सर्वे कराएंगे।"

रिपोर्टर- अनिल चौधरी

Tags:    India 
Share it
Top