आइए झटपट सागपइता बना लेते हैं

पालक के साथ-साथ यदि मौसम की कुछ और हरी सब्ज़ियां डाल दें तो इस सागपइता का स्वाद और भी बढ़ जाता है। आइए झटपट सागपइता बना लेते हैं।

आइए झटपट सागपइता बना लेते हैं

उत्तर प्रदेश के हर घर में सर्दियों में सागपइता ज़रूर बनता है। उरद की छिलके वाली दाल में पालक डाल कर पकायी हुई यह दाल इतनी स्वादिष्ट होती है की लोग उंगलियां चाट लेते हैं। उरद की दाल को सर्दियों के लिए काफ़ी पौष्टिक माना जाता है और जब ईसे पालक के साथ पकाकर हींग और मसालों का तड़का लगाया जाता है तो यह शरीर को पर्याप्त गर्मी भी पहुँचाती है। गरम गरम चावल के साथ उरद और पालक का सागपइता, नये आलू की भुजिया, हरे धनिए की चटनी और थोड़ा टमाटर का कचुंबर हो तो छप्पन भोग का मज़ा आ जाता है।

पालक के साथ साथ यदि मौसम की कुछ और हरी सब्ज़ियाँ डाल दें तो इस सागपइता का स्वाद और भी बढ़ जाता है। आइये झटपट सागपइता बना लेते हैं।


सामग्री

(३-४ लोगों के लिये)

१/३ कप छिलके वाली दली उरद की दाल

१/२ छोटा चम्मच हल्दी पाउडर

१ चम्मच कसा हुआ अदरक

२ कप बारीक कटी पालक

३/४ कप बारीक कटा हरा प्याज़, मेथी या सोया के पत्ते

तड़के के लिए

१ बड़ा चम्मच घी

चुटकी भर हींग

१/२ चम्मच ज़ीरा

१ चम्मच कटा लहसुन

१/४ कप बारीक कटी प्याज़

१/४ काटे हुए टमाटर

१ छोटा चम्मच सब्ज़ी मसाला

लाल मिर्च पाउडर स्वादानुसार

विधि

उरद दाल को हल्दी, नमक, अदरक और 1 कप पानी के साथ प्रेशर कुकर में पका लें। सीटी आने के बाद क़रीब १० मिनट तक धीमी आँच पर पकने दें और फिर कुकर को ठंडा होने दें।

कुकर के ठंडा होने तक तड़के की सामग्री तैयार कर के रखें। थोड़ा ठंडा होते ही कुकर का ढक्कन खोलें और सारी कटी हुई साग की पत्तियाँ दाल में डाल दें और फिर से ढक्कन बंद कर दें ताकि सभी साग कुकर की गर्मी में ही पक जाएँ। यदि कुकर ज़्यादा ठंडा हो गया हो तो एक बार हल्का उबाल आने दें।

तड़के के लिए घी गरम करें, हींग, ज़ीरा, लहसुन, प्याज़ एक एक कर के डालें और ख़ुशबू आने तक भूनें। जब प्याज़ थोड़े लाल हो जाएँ तो सब्ज़ी मसला डाल कर मिलायें और जल्दी से टमाटर भी डाल दें।चुटकी भर नमक डाल कर मिलाएँ और ढक कर टमाटर गलने तक पका लें।

अब इस तड़के को पकी हुई दाल में मिला दें और हल्का सा उबाल आने तक पकाएँ।

यह भी पढ़ें: सर्दियों की शुरुआत कीजिये बेसन की पिन्नी से

गरम गरम चावल के साथ परोसें और सागपइता का आनंद लें।

(संगीता खन्ना न्यूट्रिशन कोच हैं और फूड इंडस्ट्री में सलाहकार का काम करती हैं। क्षेत्रीय व्यंजनों के फूड फेस्टिवल के आयोजन के अलावा वह देशी-विदेशी व्यंजनों से जुड़े अभिनव प्रयोग करती रहती हैं। वह जानी-मानी फूड राइटर भी हैं। खाने पर उनके healthfooddesivideshi.com और banaraskakhana.com नामके दो ब्लॉग हैं।)


Share it
Top