नियमित व्यायाम और सही खान-पान से ही बचा जा सकता है डायबिटीज से

इस बीमारी से कैसे बचा जा सकता है इस बारे में हमने उन्नाव जिले के अपर मुख्यचिकित्सा अधिकारी आरके गौतम से बात की...

mohit asthanamohit asthana   15 May 2018 8:16 AM GMT

नियमित व्यायाम और सही खान-पान से ही बचा जा सकता है डायबिटीज से

डायबिटीज आजकल बहुत ही तेजी से फैल रही है। पहले ये बीमारी केवल शहरों तक ही सीमित थी लेकिन अब ये गाँव में भी फैलती जा रही है। कई बार तो इस बीमारी का शुरूआत में पता ही नहीं चल पाता और जब बीमारी का पता चलता है तब तक बीमारी गंभीर रूप ले लेती है। इस बीमारी से कैसे बचा जा सकता है इस बारे में हमने उन्नाव जिले के अपर मुख्यचिकित्सा अधिकारी आरके गौतम से बात की...
सवाल- डायबिटीज इतनी तेजी से क्यों फैल रही है?
जवाब- डायबिटीज पहले भी हुआ करती थी लेकिन अब आदमी की दिनचर्या जो अव्यवस्थित हो गई है इस वजह से ज्यादा फैल रही है। डायबिटीज का जो नाम रखा गया है (इंबेलेंस ऑफ द डाइट) सही तरह से खाना न खाना, नियमित रूप से व्यायाम न करना इन सब कारणों की वजह से डायबिटीज की समस्या ज्यादा बढ़ने लगी है। ये रोग पहले भी था लेकिन लोग इससे अंजान रहते थे। आज ब्लड टेस्ट और तमाम तरह के मेडिकल साधन आने की वजह से अब हमें इस बीमारी का पता चल रहा है कि करोड़ों की संख्या में लोग डायबिटीज से ग्रसित होते जा रहे हैं।
सवाल- पहले ये बीमारी सिर्फ शहरों तक ही सीमित थी लेकिन अब ये गाँवों में भी फैलती जा रही है इसका क्या कारण है ?
जवाब- वैसे गाँव में ज्यादातर लोग व्यायाम करते हैं लेकिन गाँव में भी खेती-बाड़ी करने की बजाय अब लोग खाना खाने के बाद लेट जाते हैं पहले के समय में लोग नियमित खाना खाते थे नियमित रूप से खेत में खेती करने के लिए जाते थे जिसकी वजह से उनका व्यायाम होता था जिसकी वजह से उनको ये बीमारी नहीं हेाती थी। ये बीमारी आनुवांशिक है ये भी एक वजह है इस बीमारी के फैलने की। इसके अलावा ये बीमारी उन्हीं को होती है जिनका खान-पान ठीक नहीं है या फिर वो व्यायाम नहीं करते हैं या फिर वो किसी भी प्रकार के नशे का सेवन करते हैं। जिसकी वजह से शरीर में हार्मोन्स की कमी होने लगती है और लोग इस बीमारी से ग्रसित हो जाते हैं।

अपर मुख्यचिकित्सा अधिकारी आरके गौतम

सवाल- अगर किसी के पिता को डायबिटीज है तो क्या ये जरूरी है कि उसके बच्चे को डायबिटीज होना तय है?
जवाब- 70 से 80 प्रतिशत तक मौका होता है कि ये बीमारी पिता से बच्चे को भी मिल जाए। अगर बच्चे की दिनचर्या सही नहीं हुई और नियमित व्यायाम नहीं किया तो 70 से 80 प्रतिशत तक चांसेज है कि उसको ये बीमारी होगी। केवल खाना-पान सही हो और नियमित व्यायाम से ही डायबिटीज से बचा जा सकता है। डायबिटीज को दवा से केवल कंट्रोल किया जा सकता है लेकिन किसी भी चीज से खत्म नहीं किया जा सकता है। अगर किसी को डायबिटीज की समस्या है तो उसको समय से दवा लेनी चाहिए, समय से व्यायाम करते रहना चाहिए और समय से डाइट लेती रहनी चाहिए।
सवाल- पहले ये बीमारी केवल वयस्कों में ही पाई जाती थी लेकिन अब ये बीमारी बच्चों में भी पाई जाती रही है?
जवाब- वो जुवेनाइल डायबिटीज कही जाती है जिसमें बच्चों के पेंक्रियाज़ में इंसुलिन हार्मोन्स का बनना नहीं हो पाता है जिस वजह से यह बीमारी होती है।
सवाल- अगर शुरूआत में डायबिटीज के लक्षण पता चल जाए तो क्या करें?
जवाब- डायबिटीज का सबसे बड़ा लक्षण ये है कि बहुत तेजी से वजन का कम होना। ऐसे समय में शुगर की जांच करा लेनी चाहिए और 40 साल के बाद तो शुगर की जांच कराते रहना चाहिए। अगर व्यक्ति अपनी डाइट को सही रखता है और अपने शरीर के प्रति गंभीर रहता है तो डायबिटीज से कभी भी न तो जान जा सकती है और न ही किडनी खराब हो सकती है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top