फिजां में छाया घना कोहरा वाहन चालकों के लिए बना हादसों का सबब

फिजां में छाया घना कोहरा वाहन चालकों के लिए बना हादसों का सबबकोहरा बना समस्या।

स्वयं डेस्क

इटावा। फिजां में घने कोहरे की घनी चादरों से वाहन चालकों को विशेष रूप से सावधानी बरतनी होगी। अन्यथा की स्थिति में किसी भी भयावह हादसे की संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता है। आसमान में छाने वाली घनी कोहरे की चादर ने सर्दी को भी अप्रत्याशित रूप से बढ़ा दिया है। जिसने आम जनजीवन को प्रभावित कर दिया है। कोहरे की धुंध में हादसों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। मौसम के जानकारों की मानें तो कोहरा और ठंड अभी और अधिक विकराल रूप में सामने आएंगी। हालातों को भांपते लोगों ने खुद को गरम कपड़ों से लैस कर लिया है। अचानक मौसम में बदलाव ने अस्पतालों में मरीजों की संख्या में भी इजाफा किया है।

महज दो दिन के अंतराल में ही मौसम की तल्खी ने लोगों को विस्मित कर दिया है। बुधवार से फिजां में छाया घनों कोहरा गुरुवार को भी अपने रूप में नजर आया। इसके साथ ही मौसम में ठिठुरन भी बढ़ी है। कोहरे के कारण हाइवे पर वाहनों की रफ्तार तथा ट्रेनों की लेटलतीफी भी लोगों की परेशानी का सबब बन रहा है। रेलवे ट्रैकों पर दौड़ने वाली द्रुत गाड़ियों की रफ्तार में अप्रत्याशित गिरावट आई है। विगत दिनों कानपुर देहात जनपद के पुखरांया के समीप हुए भीषण रेलवे हादसे के बाद तो रेल प्रशासन भी ट्रेनों को ऐहतियात के साथ चला रहा है।

मौसम के इस प्रकोप के बाद भी रेल प्रशासन, बस स्टैंड प्रशासन तथा नगर पालिका प्रशासन ने किसी भी सार्वजनिक स्थल पर किसी भी प्रकार के अलावों की व्यवस्था नहीं की है। बेघर अथवा गरीब मजदूर तबके के लोग रात में कंपकंपाने के लिए मजबूर हैं। शहर में चंद रोजों में ऐतिहासिक प्रदर्शनी का आगाज होने वाला है। एक तो नोटबंदी और ऊपर से मौसम के सितम का ही परिणाम यह देखने को आ रहा है कि प्रदर्शनी मैदान की रौनक अभी तक नजर नहीं आ रही है।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top