#स्वयंफेस्टिवल : गेहूं के मुकाबले पांच गुना कमाएं केले से

Rishi MishraRishi Mishra   30 Dec 2016 6:26 PM GMT

#स्वयंफेस्टिवल : गेहूं के मुकाबले पांच गुना कमाएं केले सेजिला उद्यान अधिकारी डॉ डीके वर्मा ने किसानों को उद्यान संबंधी जानकारी दी।

अश्विनी दिवेदी, कम्युनिटी रिपोर्टर (30 वर्ष)

लखनऊ। जिला उद्यान विभाग अधिकारी डी के वर्मा ने किसानों को बताया कि केले की खेती करके किसान गेहू से पांच गुना कमा सकते हैं। आप उद्यान विभाग में पंजीकरण करा लेते हैं और पंजीकरण विभाग की वेबसाइट पर भी हो सकता है। आप सब्जियो की खेती में बीज आप बाजार से खरीद लें और उसका बिल उद्यान विभाग में जमा कर दें। आपकी सब्सिडी आपके खाते में आ जायेगी। जिला उद्यान अधिकारी ने जरबेरा ,हरी मिर्च ,शिमला मिर्च की खेती के बारे में बताया।

कृषि मेले के दौरान जमा हुईं महिलाएं।

स्वयं फेस्टिवल के तहत ग्राम अरम्बा इटौंजा में कृषि चौपाल का आयोजन किया गया। जिसमें जिला उद्यान अधिकारी ने बताया कि उद्यान विभाग मूल रूप से चार सेगमेंट में काम करता है ,जिनमे फल,फूल,सब्जी और आचार आते है अगर किसी गाव में 20 महिलाएं आचार,मुर्र्बा, जैम ,जैली का प्रशिक्षण दे सकते है जिस पर अरम्बा गाव की 20 महिलाए प्रशिक्षण के लिये तैयार हो गयी इन महिलाओं में शिवरानी ,पिंकी,आशा देवी,मुन्नी,गुड्डी देवी सारिका ,रिंकी,सुंदरी ,आरती, बिट्टो, रेखा,मिथिलेश,माया ने कहा कि यह योजना बहुत ही अच्छी है इससे हमें रोजगार मिलेगा।

ये महिलाये आचार और मुरब्बा बनाना सीखना चाहती है। इन्होंने गांव कनेक्शन अखबार का आभार भी व्यक्त किया

कृषि विभाग से आये विनोद ने बताया कि 65 हजार वाले सोलर पंप किसान पंजीकरण कराने के बाद 24 हजार रूपये में मिल जायेगा जिसकी क्षमता 2 एच पी है,चारा कटाई वाली मशीन की 3500 रूपये की है और इस पर 1500 का सरकारी अनुदान है ,लपेटा पाइप 50 प्रतिशत अनुदान है मोके पर ही 123 किसानों ने किसान पंजीकरण कराया।

कृषि विभाग से आये विनोद ने बताया कि 65 हजार वाले सोलर पंप किसान पंजीकरण कराने के बाद 24 हजार रूपये में मिल जायेगा जिसकी क्षमता 2 एच पी है। चारा कटाई वाली मशीन की 3500 रुपये की है, इस पर 1500 का सरकारी अनुदान है। लपेटा पाइप 50 प्रतिशत अनुदान है मौके पर ही 123 किसानों ने किसान पंजीकरण करवाया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top