‘प्रतियोगिता खत्म हो गई और हमारी बारी तक नहीं आई’ 

Meenal TingalMeenal Tingal   28 March 2017 1:38 PM GMT

‘प्रतियोगिता खत्म हो गई और हमारी बारी तक नहीं आई’ प्रतियोगिता में भाग न ले पाने की वजह से बच्चे मायूस नजर आए। (फोटो: महेंद्र पांडेय)

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों की 30वीं राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता के दौरान जहां कुछ बच्चे खुश नजर आए तो वहीं कुछ रोते भी नजर आए। रोते हुए यह बच्चे वह नहीं थे जो प्रतियोगिता हार गए थे। बल्कि यह वह बच्चे थे जो बीते शुक्रवार को खेल के लिए बिजनौर से लखनऊ आए थे, लेकिन इनको प्रतियोगिता के समापन समारोह तक इन बच्चों को खेलने का अवसर नहीं मिला।

बिजनौर के जूनियर हाईस्कूल, अनेड़ा में कक्षा आठ में पढ़ने वाली मानसी (13 वर्ष) ने बताया, ‘मुझे हाई जंप, बाधा दौड़ व रिले रेस में अपनी प्रस्तुति देनी थी। हम लोगों को मुरादाबाद मण्डल से चैम्पियनशिप जीतने के बाद यहां आना था लेकिन हम लोगों के खेल यहां नहीं खिलवाए गए। तीन दिनों से लखनऊ में हैं, कल जब खेल की शुरुआत हुई तो लग रहा था कि आज मेरा वाला खेल आयोजित होगा लेकिन आज समापन समारोह तक नहीं करवाया गया। हम लोग बहुत दुखी हैं। इस बारे में शिकायत की कोशिश सर ने की थी लेकिन किसी ने सुना नहीं।’

कई बच्चियों ने इस तरह की शिकायत की। साथ ही कुछ बच्चों ने यह आरोप भी लगाए कि कई सरकारी स्कूल के साथ प्राइवेट स्कूल के बच्चों को खेल प्रतियोगिता में खिलवाने के लिए लेकर आया गया है जबकि प्रतियोगिता सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिए थी। गुलनाज बानो जो कि जूनियर हाईस्कूल किरतपुर की कक्षा आठ की छात्रा हैं कहती हैं, ‘मास्टर जी कह रहे थे कि खेल प्रतियोगिता में भाग लेना है इसलिए कई दिनों से रिले रेस, बाधा दौड़ और हाई जंप की तैयारी कर रहे थे लेकिन यहां पर प्रतियोगिता का समापन भी हो गया लेकिन हमारी कोई प्रतियोगिता नहीं हुई। बिना वजह तीन दिन खराब हो गए। परिवार वालों ने बड़ी उम्मीद से भेजा था अब सभी को दुख होगा।’

इस बारे में सहायक निदेशक, मण्डलीय, बेसिक शिक्षा, महेन्द्र सिंह राणा ने कहा, ‘स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के निर्देशानुसार आयोजित हुए खेलों में रिलेरेस, बाधा दौड़ और हाई जंप शामिल नहीं है। ब्रोशर में भी इनके नाम नहीं छपे हैं। जो बच्चे इन खेलों के लिए लाए गए हैं उनकी गलत जानकारी जिले के बीएसए के माध्यम से उनके शिक्षकों को दी गई होगी। इसमें हमारे विभाग की कोई गलती नहीं।’ हालांकि 30वीं राज्य स्तरीय बाल क्रीड़ा प्रतियोगिता एवं शैक्षिक समारोह के बारे में जानकारी देने वाले ब्रोशर में दी गयी खेल की सूची में रिलेरेस छपा हुआ है।

राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता जीतकर खुश हुए बच्चे


लखनऊ। पूर्व माध्यमिक विद्यालय वैली, ब्लॉक बुड़ाना सहारनपुर में कक्षा आठ में पढ़ने वाले विनीत कुमार (14 वर्ष) रविवार को बहुत खुश नजर आए। खुशी की वजह रही परिषदीय विद्यालयों की 30वीं राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता के दौरान कबड्डी में उनकी टीम का पहले स्थान पर आना।
विनीत कुमार कहते हैं, ‘बहुत अच्छा लग रहा है पुरस्कार जीतकर। स्कूल में मास्टर जी बहुत अभ्यास करवाते थे और स्कूल के बाद हम दोस्तों के साथ मैदान में खेलने जाते थे इसी कारण पहले स्थान पाए।’ परिषदीय विद्यालयों की 30वीं राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता के समापन समारोह के अवसर पर रविवार को कई प्रतियागिताओं का आयोजन किया गया। साथ ही पुरस्कार वितरण समारोह भी आयोजित किया गया। समारोह में संयुक्त निदेशक, बेसिक शिक्षा, ललिता प्रदीप मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहीं, जिन्होंने प्रतियोगिताओं में विजेता रहे बच्चों को पुरस्कृत किया।


खोखो प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पाने वाली टीम के सदस्य प्राथमिक विद्यालय नगलाकैरी, मैनपुरी में कक्षा दो में पढ़ने वाले आकाश यादव (7 वर्ष) अपनी टीम की जीत पर बहुत खुश हैं। वह कहते हैं, “दो दिन पहले आये थे, यहीं रुके हैं लखनऊ में अच्छा लग रहा है। मास्टर जी कह रहे हैं कि अभी लखनऊ घुमाएंगे, इमामबाड़ा भी दिखाएंगे। जीत का इनाम मास्टर जी घुमा कर देंगे।”
प्रतियोगिता में प्रदेश के 18 मण्डलों में शामिल अलीगढ़, आगरा, इलाहाबाद, आजमगढ़, कानपुर, चित्रकूट, झांसी, देवीपाटन, फ़ैजाबाद, बरेली, बस्ती, मुरादाबाद, मेरठ, लखनऊ, वाराणसी, विद्यायांचल, सीतपुर, सहारनपुर से आए लगभग 3000 छात्र-छात्राओं ने प्रतियोगताओ में भाग लिया था। मीडिया प्रभारी अनुराग सिंह राठौर व मंसूर अहमद ने बताया कि प्रतियोगिता के दौरान जूनियर बालक वर्ग 600 मीटर दौड़ में श्याम मिलन विध्यांचल मण्डल व बालिका वर्ग में साक्षी गुर्जर आगरा मण्डल ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। योग प्रदर्शन में जूनियर स्तर में बालिका व बालक दोनों वर्गों में लखनऊ मण्डल के बच्चे प्रथम स्थान पर रहे। वहीं बैडमिंटन प्रतियोगिता में बालक वर्ग में वारणसी मण्डल व बालिका वर्ग में फैजाबाद मण्डल के बच्चों ने प्रथम स्थान पाया।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top