#स्वयंफेस्टिवलः छात्राओं ने कहा, अब हम डरेंगे नहीं, आगे बढ़ेंगे

#स्वयंफेस्टिवलः छात्राओं ने कहा, अब हम डरेंगे नहीं, आगे बढ़ेंगेछात्राओं को बताया गया की आखिर वह किस तरह से इन सेवाओं का प्रयोग कर सकती हैं। विद्यालय के बच्चों को पेटीएम की भी जानकारी दी गयी।

श्रीवत्स अवस्थी (कम्युनिटी जर्नलिस्ट) 24 वर्ष

उन्नाव। शहर के चौधरी खजान सिंह कॉलेज में स्वयं फेस्टिवल के दौरान विद्यालय की छात्राओं को यूपी पुलिस की डायल 100 सेवाओं, 1090 वुमेन पावर लाइन, महिला सम्मान, साइबर क्राइम की महत्वपूर्ण जानकारियां दी गयीं। छात्राओं को बताया गया की आखिर वह किस तरह से इन सेवाओं का प्रयोग कर सकती हैं। विद्यालय के बच्चों को पेटीएम की भी जानकारी दी गयी।

2 दिसम्बर से शुरू हुआ स्वयं फेस्टिवल 8 दिसम्बर तक मनाया जाएगा। शुक्रवार को फेस्टिवल की शुरुवात चौधरी खजान सिंह कॉलेज से की गयी। यहां बच्चों को शिक्षा, रोज़गार और आत्मरक्षा की जानकारी भी दी गई।

यूपी पुलिस के प्रतिनिधि के तौर पर मौजूद रहीं स्नेहलता और धनञ्जय ने छात्राओं को बताया कि 1090 पर शिकायत के दौरान सभी सूचनाएं गुप्त रखी जाती हैं। शिकायत करने वाले की पहचान किसी भी सूरत में जाहिर नहीं की जाती है। एक बार शिकायत मिलने के बाद सीधे फोन उस व्यक्ति के पास जाता है जिसके खिलाफ शिकायत हुई है, जिसके बाद भी अगर हल नहीं निकलता है तो सम्बंधित थाने को रिपोर्ट भेज दी जाती है।

अफसरों ने बताया कि पावर लाइन 1090 में आने वाली शिकायतों के लिए इनकमिंग कॉल्स की लाइन बढ़ाई जा रही है। अब कॉल सेंटर में और ज्यादा कर्मचारी काम कर रहे हैं। विद्यालय में कई छात्राओं ने पुलिस विभाग के अधिकारियों से सवाल भी किये।

इसके साथ ही लाइफ सवेर्स ग्रुप की और से विद्यालय में बच्चों को रक्तदान के लिए जागरूक गया। बच्चों को बताया गया की आखिर कैसे उनके द्वारा किया गया रक्तदान कई लोगों की जान बचा सकता है। ग्रुप के सदस्य अनुराग सिंह और उनके साथियों ने रक्तदान को लेकर फैली भ्रांतियों को भी दूर किया।

बच्चों को बताया गया की 18 वर्ष से अधिक उम्र का एक स्वस्थ्य व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। रक्तदान से शरीर में किसी तरह की कमजोरी नहीं आती है। तीन माह के बाद एक बार रक्तदान करने वाला व्यक्ति दोबारा रक्तदान कर सकता है।

रक्तदान के प्रति जागरूकता कार्यक्रम में 50 बच्चों ने रक्तदान करने की शपथ भी ली। साथ ही रक्तदान के लिए अपना रजिस्ट्रेशन भी कराया। कार्यक्रम में विद्यालय की प्रिंसिपल सुधा सिंह और अन्य शिक्षक मौजूद रहे।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top