संपूर्ण समाधान दिवस पर फरियादियों को नहीं मिल रहा न्याय, 257 शिकायतें लंबित 

संपूर्ण समाधान दिवस पर फरियादियों को नहीं मिल रहा न्याय, 257 शिकायतें लंबित तहसील दिवस में अपनी पीड़ा बताने के लिए प्रार्थना पत्र लेकर आए फरियादी।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कन्नौज। अफसरों की चौखट पर फरियादियों को न्याय नहीं मिल रहा है। बार-बार सरकारी कार्यालयों की परिक्रमा कर लोग परेशान हैं। संपूर्ण समाधान दिवस पर आए ग्रामीणों ने ‘गाँव कनेक्शन’ से अपना दुखड़ा बयां किया।

जिला मुख्यालय कन्नौज से करीब 22 किमी दूर बसे गुगरापुर ब्लाक क्षेत्र के बारामऊ सराय निवासी मुरारी दुबे (उम्र 63 वर्ष) बताते हैं, ‘‘दो बार पूर्व में शिकायत कर चुके हैं। गांव के 24 लोगों को शौचालय नहीं मिले हैं। प्रधान सुन नहीं रहे हैं। दो मई 2017 को भी तहसील दिवस में शिकायत की थी। अब फिर डीएम साहब से अपनी बात कहने आए हैं।’’

खजुहा गांव निवासी रामू सिंह (उम्र 30 वर्ष) बताते हैं, ‘‘गांव में 50-60 मीटर मार्ग बनना है। डीएम, तहसीलदार, एसडीएम और सीडीओ को 10 बार लिखकर दे चुके हैं। प्रधान से भी कहा, लेकिन रास्ता नहीं बन रहा है। कोई भी अधिकारी और कर्मचारी देखने तक नहीं गया है। सैकड़ों का पेट्रोल भी फूंक दिया।’’

ये भी पढ़ें- तहसील दिवस कन्नौज: समस्या का निस्तारण न होने के कारण फरियादी बार-बार आने को मजबूर

जिला मुख्यालय से करीब 12 किमी दूर बसे जसपुरापुर सरैया निवासी दिलीप कुमार (उम्र 35 वर्ष) ने बताया, ‘‘पत्नी की मौत हो चुकी है। छोटे-छोटे चार बच्चे हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं मिला है, जबकि सूची में नाम है। तीन बार शिकायत कर चुके हैं, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है।’’

डीएम अंकल, मुझे स्कूल से निकाला

जिला मुख्यालय से करीब 25 किमी दूर गुरसहायगंज से आई दामिनी पाठक ने बताया कि मेरा दाखिला कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय तेराजाकेट-तालग्राम में हुआ था। चार पेपर भी हो गए थे। फिर मुझे निकाल दिया गया। दामिनी ने एक व्यक्ति पर पैसे लेने का भी आरोप लगाया है। उसने बताया कि दूसरी लड़की का दाखिला कर लिया गया है। मेरे माता-पिता भी नहीं हैं। डीएम जगदीश प्रसाद ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तालग्राम बीईओ को प्रकरण की गहनता से जांच करने की बात कही है।

नथापुर्वा निवासी सुनीता देवी (उम्र 30 वर्ष) कहती हैं, ‘‘खेत को छूते हुए 11 हजार की लाइन निकली है। पिछली बार डीएम साहब से शिकायत की थी यहां तहसील दिवस में लेकिन कोई नहीं पहुंचा। खेत मे कुछ दिनों पहले आग की लपटें निकलने लगीं।’’

ये भी पढ़ें- तीन महीने बाद लगा तहसील दिवस, नहीं दिखे फरियादी

गुखरू गांव से आईं शकीला (उम्र 60 वर्ष) ने बताया, ‘‘करीब 10 महीने पहले बेटी सलमा की हत्या कर दी गई। आठ आरोपी हैं, तीन को ही पुलिस ने गिरफ्तार किया है।’’

संपूर्ण समाधान दिवस डीएम जगदीश प्रसाद की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। इसमें एसपी हरीश चन्दर, एसडीएम अरुण कुमार सिंह, सीएमओ डॉ. कृष्ण स्वरूप आदि मौजूद रहे। निस्तारण सिर्फ एक का हुआ, जबकि शिकायतें 257 आईं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top