बांदा में भी देखिए #स्वयंफेस्टिवल की धमक

बांदा में भी देखिए #स्वयंफेस्टिवल की धमकबांदा के सिविल लाइंस स्थित पं. जवाहर लाल नेहरू पीजी कॉलेज के सभागार में एक कार्यक्रम के दौरान कुछ यूं नजर आए स्वयं फेस्टिवल के रंग।

स्वयं डेस्क

बांदा। गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर मनाए गए 'स्वयं फेस्टिवल' ने देश के सबसे बड़े ग्रामीण उत्सव का इतिहास रचा है। उत्तर प्रदेश के 25 जिलों में 2 से 8 दिसंबर तक मात्र एक सप्ताह में 1000 कार्यक्रमों के जरिये स्वयं फेस्टिवल गाँव-गाँव तक पहुंचा है। इन कार्यक्रमों से ग्रामीणों ने न सिर्फ डिजिटल दुनिया के बारे में जाना है, बल्कि उन्हें एक ऐसा मंच भी मिला, जहां उन्होंने गाँव की समस्याओं को अपने शब्दों में देश-दुनिया के सामने रखा है। सिर्फ इतना ही नहीं, स्वयं फेस्टिवल में 650 से ज्यादा स्वयंसेवी संस्थाओं, कृषि और पशुपालन विभाग के साथ-साथ उत्तर प्रदेश पुलिस का भी सहयोग मिला। इन विभागों और संस्थाओं की मदद से करीब 7 लाख ग्रामीणों और युवाओं के साथ सीधा संवाद स्थापित कर उन तक कृषि, रोजगार, शिक्षा और विकास से जुड़े विषयों की जानकारी पहुंचाई गई। यही कारण है कि गाँव कनेक्शन के स्वयं फेस्टिवल ने देश के सबसे बड़े ग्रामीण उत्सव के रूप में मिसाल कायम की है। इन 25 जिलों में एक जिला बांदा भी शामिल रहा, आइये आपको दिखाते हैं बांदा में स्वयं फेस्टिवल की कुछ झलकियां।

बांदा के बंदौसा ब्लॉक के ग्राम पंचायत दुवरिया में नि:शुल्क नेत्र जांच शिविर में बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने जांच करवाई।
जिले के बंदौसा ब्लॉक स्थित दीनानाथ बालिका कॉलेज की छात्राओं ने यूपी पुलिस की नई सेवाओं जैसे महिला हेल्पलाइन 1090, महिला सम्मान प्रकोष्ठ आदि के बारे में जाना।
बांदा के सिविल लाइंस स्थित पं. जवाहर लाल नेहरू पीजी कॉलेज के सभागार में लोगों को मिली यूपी 100, यूपी पुलिस टविटर सेवा आदि सेवाओं के बारे में जानकारी।
जिले के सिविल लाइंस स्थित पं. जवाहर लाल नेहरू पीजी कॉलेज में गाँव कनेक्शन अखबार की प्रतियां देखते लोग।
बांदा के बेबरु कोतवाली क्षेत्र के अधांव गाँव में ग्रामीणों ने यूपी पुलिस की नई सेवाओं के बारे में जाना।
बांदा के खाइंपार गाँव में ग्रामीणों को मिली महिला सशक्तिकरण एवं मानवाधिकार की जानकारी।
बांदा के बेबरु कोतवाली क्षेत्र के अधांव गाँव में किसान गोष्ठी के दौरान कृषि विशेषज्ञों ने ग्रामीणों को सरकारी योजनाओं और स्वच्छ भारत मिशन के बारे में जानकारी दी।
बांदा के जिला पंचायत भवन के सभागार में यूपी पुलिस की नई हेल्पलाइन के बारे में जानकारी देते बबेरू थाना के इंस्पेक्टर देवेंद्र मिश्रा।
इसी कार्यक्रम के दौरान अपने क्षेत्र में अलग पहचान बनाने वाली कई शख्सियतों को जिला स्तर पर मिला स्वयं अवॉर्ड सम्मान।
बांदा के जिला पंचायत भवन में कुछ यूं दिखी स्वयं अवॉर्ड की झलक।
बांदा के श्रेया आकर्ष इंस्टीट्यूट में युवाओं ने बिखेरा अपनी गायिकी और डांस का जादू।
इंस्टीट्यूट के युवाओं ने देश के ग्रामीण अखबार को सराहा।
बांदा के गुलर नाका क्षेत्र स्थित सिद्दीकी मेमोरियल कॉलेज के बच्चों ने जाना यूपी पुलिस के हेल्पलाइन नंबर 1090, यूपी 100 के बारे में।
सिद्दीकी मेमोरियल कॉलेज के बच्चों में दिखा ‘गाँव कनेक्शन’।
कॉलेज के छात्र-छात्राओं को प्रतियोगिता में विजयी होने पर मिला सम्मान।
बांदा के बंदौसा ब्लॉक के ग्राम पंचायत दुवरिया क्षेत्र स्थित एएमबी कॉलेज बच्चों ने जाना क्या है यूपी 100।
कॉलेज के बच्चों ने जाना नोटबंदी के दौरान क्या मिला लोगों को पेटीएम का फायदा।
बांदा के पलरी रोड स्थित श्रीकृष्णा कॉलेज के बच्चों ने जाना, क्या है गुड टच, बैड टच।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top