तीन वर्षों से सात गाँवों की राहें दुश्वार

तीन वर्षों से सात गाँवों की राहें दुश्वारgaonconnection

सोहावल (फैज़ाबाद)। पवन कुमार (42 वर्ष) पिछले साल गाँव की सड़क पर साइकिल से बाज़ार जाते वक्त गिर कर चोटिल हो गए थें। पवन कुमार अकेले उनके जैसे न जाने कितने बुजुर्ग सात गाँवों को जोड़ने वाले भवनियापुर संपर्कमार्ग पर आये दिन घायल होते हैं।

मगर इस सड़क को तीन साल से सुधारे जाने का इंतजार है। इस सड़क के दिन बदलते करीब दो साल पहले नजर आये थे। जब पीडब्ल्यूडी ने इसकी मरम्मत की थी, मगर मरम्मत एक महीने बाद ही सड़क दोबारा बदहाल हो गई।

फैजाबाद जिले के सोहावल ब्लॉक के भवनियापुर गाँव के रहने वाले पवन बताते हैं, ‘पिछले तीन वर्षों से गाँव को हाईवे से जोड़ने वाला संपर्क मार्ग बदहाल है। जगह-जगह बड़े गड्ढे हो गए हैं। गिट्टियां बाहर आ गई हैं। इस पर गाड़ी चलाना तो दूर की बात है पैदल चलना भी खतरे से खाली नहीं है।’

भवानीपुर संपर्क मार्ग क्षेत्र के सात गाँवों (भवनियापुर, पिरखौली, प्रभात का पुरवा, गदरही, गजिदुआ, लक्षमणपुर, रंजीत का पुरवा) को जोड़ने वाली यह चार किमी लंबी सड़क है। यह मार्ग ही इन गाँवों को हाईवे से जोड़ता है। पीडब्ल्यूडी और पंचायत की लापरवाही के कारण लोगों को दुश्विरयों का सामना करना पड़ रहा है। मार्ग से सटे पारस माध्यमिक विद्यालय में इन सभी सातों गाँवों के बच्चे पढ़ने आते हैं।

यहां के प्रधानाध्यापक महेंद्र प्रताप सिंह बताते हैं, ‘मार्ग खराब होने के कारण बच्चों को स्कूल आने में काफी परेशानी हो रही है। हमने कई बार प्रधान के माध्यम से इस सड़क को बनवाने की एप्लीकेशन ब्लॉक में जमा करवाया। लेकिन कोई सुनवाई  नहीं हुई।’ सड़क की बदहाली के बारे में पिरखौली ग्राम पंचायत के प्रधान कप्तान सिंह कहते हैं, ‘दो वर्ष पहले इस मार्ग की मरम्मत करवाई गई थी पर बारिश के बाद यह सड़क फिर से टूट गई है। इस बार तहसील दिवस पर इसकी मरम्मत के लिए दोबारा फरियाद करेंगे।’

स्वयं वालेंटियर: गीतिका सिंह

स्कूल: पारस माध्यमिक विद्यालय

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

Tags:    India 
Share it
Top