सीएम योगी को काले झंडे दिखाने वालों को जमानत, देखिए कैसे फ्लीट के सामने आए थे प्रदर्शनकारी

सीएम योगी को काले झंडे दिखाने वालों को जमानत, देखिए कैसे फ्लीट के सामने आए थे प्रदर्शनकारीसात जून को सीएम के काफिले को इन छात्रो‍ं ने काले झंडे दिखाए थे 

लखनऊ। सीएम योगी आदित्यनाथ की फ्लीट को रोकने और काले झंडे दिखाने के मामले में जेल भेजी गई युवती ने सोमवार को एक पत्र लिखकर राज्य सरकार को खुलेआम चुनौती दी है। जेल से लिखे पत्र में उसने कहा है कि वह भगत सिंह की वारिस है और फांसी से नहीं डरती। सरकार के डर से चुप नहीं बैठने की बात लिखी और अपने हक की लड़ाई लड़ती रहेगी।

पत्र में युवती ने प्रदेश की कानून व्यवस्था और एलयू में हुए भ्रष्टाचार होने की बात कही। हालांकि पत्र आइसा से जुड़े एक छात्र की ओर से जारी किया गया है। छात्र का दावा है कि यह पत्र पूजा ने जेल में रहते हुए लिखा है। गांव कनेक्शन इसकी पुष्टि नहीं करता है। इसी के साथ इस मामले में गिरफ्तार हुए छात्रों की जमानत की अर्जी आज सेशन कोर्ट में मंजूर हो गई है जिसके बाद बुधवार को ये सभी छूट जाएंगे।

वीडियो- देखिए कैसे प्रदर्शनकारी आए थे फ्लीट के सामने, इसी तरीके पर उठे थे सवाल

ये भी पढ़ें: देखें फ़ोटो : जब मुख्यमंत्री योगी की सुरक्षा में छात्रों ने लगाई सेंध

लखनऊ यूनिवर्सिटी में शोध छात्रा पूजा शुक्ला आइसा गुट में हैं। बीते दिनों एलयू में स्वराज दिवस के कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ को कुछ छात्रों ने काले झंडे दिखाए थे। छात्र सीएम की फ्लीट के आगे लेट गए। पुलिस इन छात्रों को हिरासत में लेकर हसनगंज थाने ले गई।

इन छात्रों में समाजवादी छात्र सभा के अनिल यादव, राकेश समाजवादी, अंकित बाबू तो वहीं पूर्व में आइसा से जुड़ी रहीं एलयू की छात्रा पूजा शुक्ला समेत कई स्टूडेंस्ट शामिल थे। इन सभी को जेल भेज दिया था। जेल जाने के बाद पूजा ने सरकार को संबोधित करते हुए एक सार्वजनिक पत्र लिखकर फिर से हड़कम्प मचा दिया।

पत्र की शुरुआत पूजा ने भगत सिंह के ऊपर लिखी किताब में लिखी चंद लाइनों से की है। उसे ये फि़क्र है हरदम, नया तजर-ए-जफ़ा क्या है? हमें ये शौक देखें, सितम की इंतहा क्या है ! पत्र में पूजा ने आगे लिखा, ‘भगत सिंह, बाबा साहेब, लोहिया उसके आदर्श हैं। एलयू आकर ही इनके बारे में जानने और पढ़ने का मौका मिला। तभी से अन्याय के खिलाफ लड़ने की हिम्मत आई और उसकी ओर कदम बढ़ा दिए।

पूजा ने पत्र में प्रदेश की कानून व्यवस्था को निशाना बनाते हुए सहारनुपर कांड का भी जिक्र किया। साथ ही जेवर बुलंदशहर कांड को भी ध्वस्त कानून व्यवस्था एक नमूना करार दिया। वहीं पूजा ने पत्र में एलयू में हो रहे भ्रष्टाचार पर हमला बोलते हुए कहा कि छात्रों का रुपया सरकार को खुश करने में लुटाया जा रहा है। इस संबंध में आईजी जेल का कहना है कि, मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है, अगर जेल से ऐसा कोई पत्र लिखा गया है तो उसकी जांच कराई जाएगी और दोषियों पर लापरवाही बरतने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top