औरैया: कहीं परियोजना ऑफिस बंद तो कहीं आंगनबाड़ी केंद्र, कारण बताओ नोटिस जारी

औरैया: कहीं परियोजना ऑफिस बंद तो कहीं आंगनबाड़ी केंद्र, कारण बताओ नोटिस जारीडीपीओ ने वेतन रोक कार्यालय बंद होने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

रहनुमा बेगम, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

औरैया। जिले में कुपोषित बच्चों की संख्या अधिक होने की वजह से आंगनबाड़ी केंद्रों को नियमित खोलने और पुष्टाहार वितरित किए जाने का आदेश है। इसके बावजूद डीपीओ के बाल विकास परियोजना अधिकारी भाग्यनगर, सहार के कार्यालय में ताला पड़ा हुआ मिला तो कई आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों की जगह पशु घूमते हुए और उनका गोबर पड़ा हुआ मिला। डीपीओ ने वेतन रोक कार्यालय बंद होने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला कार्यक्रम अधिकारी राजेश कुमार वर्मा ने बाल विकास परियोजना कार्यालय भाग्यनगर का निरीक्षण किया तो कार्यालय 01.45 बजे बंद पाया गया। इसी के साथ सहार परियोजना कार्यालय 02.45 बजे बंद मिला। कार्यालय बंद होने की वजह से अभिलेखों का सत्यापन नहीं हो सका। बाल विकास परियोजना अधिकारी पुष्पा शुक्ला व मुख्य सेविका ममता दीक्षित अनपुस्थित मिली। इससे पहले भी भाग्यनगर का निरीक्षण किया गया तो कार्यालय बंद पाया गया।

सहार कार्यालय में दूसरे दिन निरीक्षण किया गया तो बाल विकास परियोजना अधिकारी अचर्ना द्विवेदी व कनिष्ठ सहायक अनुपस्थित मिले। उमाकांती मुख्य सेविका, अश्वनी वर्मा, रमा त्रिपाठी, सीमा चौधरी बिना अवकाश स्वीकृत अनुपस्थित मिली। इसके अलावा तीन आंगनबाड़ी केंद्रो की कार्यकत्रियां भी अनुपस्थित पाई गई। डीपीओ ने बताया कि अनपुस्थिति सीडीपीओ और मुख्य सेविकाओं का वेतन रोक दिया गया है। कार्यालय बंद मिलने की वजह से कारण बताओ नोटिस दिया गया है। इस संबंध में डीएम को भी अवगत करा दिया गया है। नोटिस का जवाब न देने पर कार्रवाई की जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top