शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के तीन तलाक और गो हत्या पर बैन की मांग का भाजपा ने किया स्वागत

शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के तीन तलाक और गो हत्या पर बैन की मांग का भाजपा ने किया स्वागतभाजपा देश प्रवक्ता डा0 चन्द्रमोहन।

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी ने शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के तीन तलाक के संबंध में किये गये फैसले का स्वागत किया। प्रदेश प्रवक्ता डा0 चन्द्रमोहन ने कहा कि तीन तलाक, गोहत्या और अवैध बूचड़खानों को हराम घोषित करने के शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के फैसलों से कुप्रथाओं के अंत पर सहमति बनने की उम्मीद जगी है।

ये भी पढ़ें- डाॅक्टर ने कहा किडनी खराब है, पति ने रास्ते में कहा, तलाक, तलाक, तलाक

डा0 चन्द्रमोहन ने कहा कि तीन तलाक अमर्यादित और अमानवीय है एक शब्द को तीन बार बोलकर शादी जैसे पवित्र रिश्ते को तोड़कर महिला को ठोकरे खाने पर विवस करने वाली यह परम्परा असमाजिक है जो मानवता के विरूद्ध है।

गाय भारतीय संस्कृति का प्रतिनिधित्व करती है। भारत के हर नागरिक की राष्ट्रीय जिम्मेदारी है कि वह राष्ट्रीय सांस्कृतिक मूल्यों का सम्मान, संरक्षण एवं संबर्धन करें। जो भी अवैध हो उसे हराम कहने का साहस सभी को दिखाना चाहिए। मर्यादा पुरूषोत्तम राम समता-ममता के उद्गाता है, राष्ट्रीय अस्मिता के मानदण्ड है। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से करोड़ो जनमानस की भावना के सम्मान साथ ही भारतीय मूल्य और विचार विश्वक्षितिज पर स्थापित होंगे।

ये भी पढ़ें- ट्रिपल तलाक के खिलाफ आरएसएस के हस्ताक्षर अभियान को 10 लाख मुस्लिम महिलाओं का समर्थन

डा0 चन्द्रमोहन ने कहा कि शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने तीन तलाक और गोहत्या को हराम घोषित कर मानवीयता और भारतीय मूल्यों के पक्ष में अपनी मुखर अभिव्यक्ति दी है। अवैध को अवैध कहने का साहस काबिले तारीफ है। अवैध बूचड़खानों पर नकेल कसने के प्रदेश सरकार के निर्णय का समर्थन सकारात्मक है। रामजन्म भूमि मंदिर निर्माण पर सहमति के द्वारा मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने की बात शिया पर्सनल लाॅ बोर्ड की और से सार्थक पहल है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

शिया पर्सनल लॉ बोर्ड की क्या थी मांग

बुधवार को ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने लखनऊ में ट्रिपल तलाक पर बैन का समर्थन किया। बोर्ड ने इस बात पर सहमति जताई कि ट्रिपल तलाक के खिलाफ कानून बनना चाहिए। वहीं बोर्ड ने महिलाओं के अधिकार के लिए एक अलग कमेटी बनाने की भी मांग रखी। बोर्ड का मानना है कि सच्चर कमेटी जैसी कोई कमेटी महिलाओं के बनाई जानी चाहिए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top