किसानों को आर्थिक रूप से इतना मजबूत कर दे कि कर्ज लेने की जरूरत न पड़ें : योगी आदित्यनाथ

किसानों को आर्थिक रूप से इतना मजबूत कर दे कि  कर्ज लेने की जरूरत न पड़ें : योगी आदित्यनाथलखनऊ जिले के 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र देते हुए ‍फसल ऋण मोचन योजना की शुरुआत (फोटो : विनय गुप्ता)

लखनऊ। सरकार फसल ऋण मोचन योजना में किसानों का कर्ज माफ करके उनका हक दे रही है। सरकार का काम है कि वह किसानों को आर्थिक रूप से इतना मजबूत कर दे कि किसानों को कर्ज लेने की जरूरत ही नहीं पड़े।

गुरुवार को राजधानी के स्मृति उपवन में कर्जमाफी कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बातें कही। प्रदेश सरकार की तरफ से आयोजित इस कार्यक्रम लखनऊ जिले के 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र देते हुए ‍फसल ऋण मोचन योजना की शुरुआत की गई।

ये भी पढ़ें- अगर सड़क पर नमाज सही है तो फिर कांवड़ यात्रा गलत कैसे : योगी

फसल ऋण मोचन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय गृहमंत्री और लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह को गोदान पुस्तक भेंट कर उनका स्वागत किया। कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए दोनों उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मा, मंत्री दारा सिंह चौहान, ब्रजेश पाठक, स्वाति सिंह, आशुतोष टंडन व मौजूद थे।

इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सरकार किसानों को उनका हक दे रही। पहले किसानों को समय से बीज और खाद नहीं मिलता था लेकिन केन्द्र और राज्य में बीजेपी सरकार बनने के बाद किसानों को अब खाद बीज के लिए भटकना नहीं पड़ रहा है।

उन्होंने कहा किसानों को उनकी उपज का सही लाभ देने के लिए काम जा रहा है। रबी सीजन में किसानों को उनका गेहूं का लाभ मिले इकसे लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार ने सीधे किसानों से रिकार्ड गेहूं की खरीद की है। प्रदेश में पहली बार आलू का समर्थन मूल्य घोषित किया। आलू को मंडी शुल्क मुक्त किया। प्रदेश के दूसरे राज्यों और बाहर आलू भेजने के लिए किसानों को प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की गई। प्रदेश के धान उत्पाद किसानों को अच्छा लाभ मिल इसके लिए सरकार ने अभी से खरीफ सीजन में धान क्रय की तैयारी शुरू कर दी है जिसमें किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदने वाले धान पर प्रति कुंतल धान पर 10 रूपए की जगह 15 रुपए बोनस दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- कर्जमाफी योजना : यहां पढ़िए, मुख्यमंत्री योगी के भाषण की 10 बड़ी बातें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहली बार केंद्र और प्रदेश दोनों सरकार किसानों के संरक्षण के लिए काम कर रही हैं। सरकार किसानों के सम्मान को आगे बढ़ाने में लगी है।

25 करोड़ किसानों का देश में जनधन योजना में खाता खोला गया है। प्रधानमंत्री ने ड्रिप एरिगेशन की व्यवस्था की है। किसानों की जमीन को बचाने और संरक्षित करने के लिए किसानों की जमीन केा आधार से जोड़ने का आदेश राजस्व विभाग को दिया जा चुका है। किसानों के साथ अब कोई धोखाधड़ी नहीं कर पाएगा। अन्ना प्रथा के लिए योजना बनाई जा रही। एन्टी भू-माफिया हर जिले में काम कर रही। गो-सेवा आयोग को आवारा पशुओं के लिए योजना बनाने को निर्देश किया। गोचर भूमि को हर गांव में पुनर्जीवित करेंगे। किसानों के साथ अत्याचार और भेदभाव नहीं होगा।

कार्यक्रम की शुरुआत में प्रदेश के वित्त मंत्री मंत्री राजेश अग्रवाल ने कर्जमाफी योजना के बारे में विस्तार से बताया। इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि केंद्र और यूपी की सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने का काम कर रही है। इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भावुक होकर बताया कि बचपन में मेरे खेतों को गिरवी रखना पड़ा था। फिर उसे छुड़ाने के लिए चाय की दुकान लगानी पड़ी थी मुझे। गरीबी क्या है यह मैं अच्छी़ तरह जानता हूं।

ये भी पढ़ें- यूपी : कर्जमाफी योजना का आगाज, गृहमंत्री ने कहा, सीएम योगी ने कथनी-करनी में अंतर नहीं आने दिया

केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि मंच पर बैठे-बैठे मैं किसानों के चेहरे देख रहा हूं, पहले भी कई सरकारों को मैंने कर्जमाफी के मसले पर राजनीति करते देखा है। मगर हम लोगों ने किसानों का ऋण माफ करने का वादा किया था जो आज पूरा भी कर दिया। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बहुत बधाइयां देते हुए कहा कि योगी की कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं है।

उन्होंने कहा कि 100 दिन में कर्जमाफी का वादा पूरा करने का करिश्मा सिर्फ योगी सरकार के बस की बात थी जो उन्होंने कर दिखाया।

इस अवसर पर राजनाथ ने बताया कि हिंदुस्तान में भारत छोड़ो आंदोलन में किसानों ने बढ़-चढ़कर हिंससा लिया था। किसानों ने देश को हर कदम पर साथ दिया है। ऐसे में किसानों को मजबूत बनाने की जरूरत है।

इस माैके पर केन्दीय गृह मंत्री राजनाथ ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जनता के साथ किया अपना वादा हमारी सरकार ने पूरा किया। 100 दिन में सरकार ने बहुत काम किया। किसानों को उनकी उपज का सही लाभ दिलाया। किसानों की लागत को हमारी सरकार ने कम किया। केंद्र में मोदी की सरकार बनने के बाद खाद की कीमत में कमी हुई है। 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करेंगे। प्रधानमंत्री फसल बीमा से किसानों को मिल रहा लाभ।

राजनाथ सिंह ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को बखान करते हुए कहा कि उनकी सरकार किसानों के लिए बहुत सारा काम कर रही है। किसानों को लाभ मिले जिससे 585 मंडियों को सीधे इंटरनेट से जोड़ा गया है जिसका किसानों को सीधे लाभ मिल रहा। 5 महीने में ही उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐतिहासिक काम किया। चीन की तरह भारत में किसान एक हेक्टेयर में 6 हज़ार किलो अन्न पैदा करेगा इसके लिए भी काम किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि नए भारत के लिए नए उत्तर प्रदेश का निर्माण करना होगा। ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देंगे। घुमन्तू यानि अन्ना पशुओं के लिए सरकार व्यवस्था करेगी। फ़ूड फ्रोसेसिंग यूनिट अधिक से अधिक सरकार लगाएगी।

Share it
Top