सीएम योगी ने गोरखपुर में 261 करोड़ 62 लाख रुपए की योजनाओं का किया शुभारंभ  

सीएम योगी ने गोरखपुर में 261 करोड़ 62 लाख रुपए की योजनाओं का किया शुभारंभ  गोरखपुर में जनसभा को संबोधित करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद गोरखपुर के विकास से जुड़ी 261 करोड़ 62 लाख रुपए की योजनाओं का शिलान्यास किया। यह कार्यक्रम दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के परिसर में हुआ।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मुख्यमंत्री द्वारा जिन विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया, उनमें गोरखपुर विकास प्राधिकरण की लेकव्यू विस्तार आवासीय योजना के अन्तर्गत तारामंडल के निकट बहुमंजिले भवन का निर्माण, रामगढ़ ताल परियोजना के अन्तर्गत सर्किट हाउस के निकट पार्क का निर्माण, वीर बहादुर सिंह स्पोट्र्स कालेज गोरखपुर में डेनेज सिस्टम का निर्माण तथा चैधरी चरण सिंह निरीक्षण गृह गोरखपुर का जीर्णोद्धार/मरम्मत, केन्द्र सरकार की आईपीडीएस स्कीम को लागू करने के लिए विद्युत विभाग के पांच 33/11 केवी विद्युत उप केन्द्र का निर्माण कार्य व गोरखपुर में एलटी लाइन को अण्डरग्राउण्ड केबल में बदलने के कार्य भी शामिल हैं।

गोरखपुर में योजनाओं का शिलान्यास करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने गरीब एवं मेधावी छात्रों को आईएएस/पीसीएस एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग सुविधा प्रदान किए जाने के लिए कोचिंग भवन, दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में 100 क्षमता वाले महिला छात्रावास, रामगढ़ ताल परियोजना में 1000 की क्षमता के बहुपयोगी प्रेक्षागृह एवं सांस्कृतिक केन्द्र, परिवहन निगम के राप्तीनगर बस स्टेशन के पुनर्निर्माण कार्य तथा नौसढ़ में सेटेलाइट बस स्टेशन के नव निर्माण कार्य, पूर्वांचल के लोगों की आवागमन की समस्या के समाधान के लिए नन्दानगर में रेलवे लाइन के नीचे फोर-लेन अण्डरपास के निर्माण कार्य एवं सर्किट हाउस परिसर में एनेक्सी भवन के निर्माण कार्य की आधारशिला रखी।

प्रधानमंत्री के संकल्प को दोहराया

इस अवसर पर सीएम योगी ने सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री के संकल्प को भी दोहराया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि उत्तर प्रदेश जैसे विशाल प्रदेश के विकास के बिना देश का सर्वांगीण विकास अधूरा है। उनकी इच्छा थी की उत्तर प्रदेश के साथ ही वे पूरे देश के विकास को बल दे सकें। प्रधानमंत्री के इस संकल्प को पूरा करने के लिए जनता ने भाजपा की सरकार बनाई है। इसलिए अब हम सबका दायित्व है कि उत्तर प्रदेश को सर्वोत्तम प्रदेश बनाएं। कानून व्यवस्था को सुदृढ़ करने पर जोर देते हुए कहा कि अब किसी भी व्यक्ति को कानून अपने हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा। पूर्ववर्ती सरकारों में लचर कानून व्यवस्था के कारण औद्योगिक माहौल खराब हो गया था। उद्योगपति उद्योगों में निवेश करने से डर रहे थे, लेकिन उत्तर प्रदेश की वर्तमान कानून व्यवस्था से प्रभावित होकर यहां उद्योगों में निवेश का माहौल बनने लगा है। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में किसान भाइयों का शोषण बर्दाश्त नहीं होगा।

सीएम योगी ने प्रधानमंत्री की स्वच्छ भारत अभियान व ‘नमामि गंगे’ परियोजना की चर्चा करते हुए कहा कि गंगा नदी उत्तर प्रदेश में 1000 किमी लम्बाई में बहती है, जिसके किनारे दर्जनों शहर एंव 985 गांव बसे हुए हैं। इसके अतिरिक्त अन्य महत्वपूर्ण नदियां भी उत्तर प्रदेश में बहती है, लेकिन इनमे लगातार बढ़ती गंदगी के कारण इनका पानी बेहद प्रदूषित होता जा रहा है। उन्होंने प्रदेश की जनता से अपील की कि इन नदियों को स्वच्छ रखें तथा भारतीय सनातन परम्परा को कायम रखें।

इस अवसर पर प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, राज्य मंत्री जय प्रकाश निषाद, पूर्व मंत्री एवं राज्यसभा सदस्य शिव प्रताप शुक्ल समेत कई सांसद, विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

प्रेस क्लब के नवनिर्वाचित कार्यकारिणी को शपथ दिलायी

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर जनपद गोरखपुर स्थित नेपाल लॉज क्लब में गोरखपुर जर्नलिस्ट प्रेस क्लब के नवनिर्वाचित कार्यकारिणी को शपथ दिलायी। उन्होंने कहा कि मीडिया लोकतंत्र की सजग प्रहरी है। प्रदेश के सकारात्मक विकास में मीडिया का सहयोग बहुत जरूरी है। मीडिया के महत्वपूर्ण योगदान से ही जनसमस्याओं और कठिनाइयों की ओर सरकार का ध्यान आकृष्ट होता है और उसके निराकरण की कार्यवाही भी की जाती है। उन्होंने कहा कि कोई घटना मीडिया के लिए छोटी हो सकती है, लेकिन सरकार के लिए प्रत्येक घटना काफी महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि गोरखपुर मीडिया 7 करोड़ लोगों की आवाज है।

सीएम योगी ने कहा कि मीडिया के सहयोग से इंसेफलाइटिस जैसी गंभीर बीमारी की बात को केन्द्र सरकार तक पहुंचाकर, बीमारी से बचाव एवं उसके कारणों के शोध के लिए सेंटर स्थापित करने में मदद मिली है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में बीआरडी मेडिकल कॉलेज एकमात्र ऐसा हॉस्पिटल है, जहां शोध एवं उपचार दोनों होता है। रोजगार दिलाने व किसानों के गन्ने की पेराई के उद्देश्य से प्रदेश में 5 नई चीनी मिलें स्थापित करने को कहा। उन्होंने यह भी बताया कि हमारी सरकार द्वारा अब तक गन्ना किसानों का 5500 करोड़ रुपए के गन्ना मूल्य का भुगतान करा दिया गया है। किसानों के गेहूं क्रय योजना के अन्तर्गत 7 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा जा चुका है। जो पिछले वर्ष इस अवधि में हुई खरीद के सापेक्ष तीन गुना है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top