फसल नुकसान का किसानों को एक हफ्ते के अंदर मिलेगा मुआवजा

फसल नुकसान का किसानों को एक हफ्ते के अंदर मिलेगा मुआवजाउत्रर प्रदेश के उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा।

लखनऊ। बिजली के तार गिरने से खेतों में आग लगने से फसल को हो रहे नुकसान का मुआवजा सरकार एक हफ्ते के अंदर किसानों को मिलेगा। उत्रर प्रदेश के उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने इसके आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि अगर कोई भी एक सप्ताह के बाद भी मुआवजे से वंचित रह गया तो संबंधित जिलों के अधिकारी पर कार्रवाई की जाएगी। शुक्रवार को शक्ति भवन में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस केा संबोधित करते हुए उर्जा मंत्री ने कहा कि जिस भी जिले में आग लगने से फसल नुकसान की घटनाएं हो रही हैं वहां के अधिकारी मौके पर जाकर किसानों के नुकसान का आंकलन करें।

श्रीकांत शर्मा ने कहा कि मुखयमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नवरात्रि में सभी शक्तिपीठों और चार प्रमुख धार्मिक शहरों में 24 घंटों बिजली मुहैया कराने का आदेश दिया था। जिसका पूरी तरह पालन हुआ है। उन्होंने कहा कि अब मुख्यमंत्री ने आदेश दिया है कि बोर्ड परीक्षाओं के दोरान रात मे बिजली की कटौती नहीं की जाए और परीक्षा कक्ष में भी पर्याप्त बिजली उपलब्ध हो। उर्जा मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री के इन आदेशों का पालन होगा।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

श्रीकांत शर्मा ने कहा कि हमारी सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घंटे और, तहसीलों में 20 घंटे और जिला मुख्यालयों में 24 घंटे बिजली उपलब्ध करा रही है। उन्होंने रोस्टर के मुताबिक बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित करने का आदेश बिजली विभाग के अधिकारियों को दिया। अखिलेश यादव की पिछली सरकार पर हमला बोलते हुए उर्जा मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार की तरफ से हमें जर्जर बिजली व्यवस्था मिली है। वह सरकार केवल समय काटने वाली मानसिकता के साथ काम करती थी लेकिन हमारी सरकार पावर फार आल के लिए काम कर रही है।

श्रीकांत शर्मा ने कहा कि प्रदेश में बिजली व्यवस्था का मजबूत करने के लिए 14 अप्रैल को केन्द्र और राज्य सरकार के बीच पावर फार आल समझौते पर हस्ताक्षर होंगे। केन्द्रीय उर्जा मंत्री पीयूष गोयल लखनऊ आकर मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के साथ मिलकर इस समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top