Top

गर्मी में चिड़ियों को मिले दाना-पानी इसके लिए रैंप पर उतरी छात्राएं    

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   19 April 2017 12:48 PM GMT

गर्मी में चिड़ियों को मिले दाना-पानी इसके लिए  रैंप पर उतरी छात्राएं    वाटर पॉट्स लेकर छात्राओं ने रैंप वॉक किया।

लखनऊ। गर्मी के दिनों पानी नहीं मिल पाने के कारण मरने वाले पक्षियों को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए वाटर पॉट्स लेकर छात्राओं ने रैंप वॉक किया।

लखनऊ विश्वविद्यालय विधि संकाय के एलएलबी तीसरे वर्ष के फेयरवेल पार्टी में ‘वाटर टू बर्ड्स कैंपेनिंग, हर घर आशियाना’ को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए वाटर पॉट्स लेकर छात्राओं ने रैंप वॉक किया।

इस कार्यक्रम में सभी से अपील किया गया कि गर्मी के मौसम में लाखो पंक्षी दाना और पानी के आभाव में अपने जान गवा देते हैं, उनके लिए आप सभी अपने घर के छतों पर, लॉन में, बगीचे में और घर के अगले बगल इन पंक्षियों के लिए दाना और पानी रखें।

लखनऊ यूनिवर्सिटी में फेयरवेल पार्टी चला जागरूकता अभियान

पहली बार हुआ फेयरवेल पार्टी में किसी सोशल कॉज को लेकर इस तरह जागरूकता फैलाया गया। रैंप वॉक कर रही छात्रा पारुल का कहना था कि हमे बेहद खुशी है कि हम सब इन बेजुबान पंक्षियों के लिए कार्य कर रहे.

गैर सरकारी संस्था गो ग्रीन सेव अर्थ फाउंडेशन और हमराह फाउंडेशन ने कराया आयोजन।

गैर सरकारी संस्था गो ग्रीन सेव अर्थ फाउंडेशन के अध्यक्ष विमलेश निगम ने कहा, "इस बार चिलचिलाती धूप के तपिश भरे मौसम में पारा बहुत ज्यादा बढ़ने का अनुमान है। पेड़ो की लगातार होती कमी और लगातार सूखते जल स्रोतों की वजह से गौरैया व अन्य पक्षियों को आश्रय व दाना पानी की तलाश में इधर उधर भटकना पड़ता है। जिस प्रकार हमे इस गर्मी में पंखे, कूलर व ठंडे पानी की आवश्यकता होती है। उस प्रकार उन्हें भी दाना पानी व छाया की जरुरत पड़ती है।"

पक्षियों के लिए रैंप पर उतरी छात्राएं

साल 2012 में गो ग्रीन सेव अर्थ फाउंडेशन ने गर्मी के मौसम में गौरैया व लाखों अन्य पक्षियो के संरक्षण के लिए दाना-पानी आदि की व्यवस्था के लिए अभियान को सोशल मीडिया पर चलाया था। जिससे काफी लोगों ने जुड़ कर अभियान को सफल बनाया था। आज ये अभियान संस्था द्वारा उत्तर प्रदेश, दिल्ली प्रदेश, मध्यप्रदेश और बिहार में चलाया जा रहा है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.