बाराबंकी में एएनएम की लापरवाही से प्रसूता की मौत

बाराबंकी में एएनएम  की लापरवाही से प्रसूता की मौतप्रसूता रामदुलारी । फाइल फोटो

वीरेंद्र सिंह, कम्युनिटी जर्नलिस्ट

बाराबंकी। मुख्यालय के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र छेदा में एक एएनएम की लापरवाही से देर रात एक प्रसूता की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि प्रसूता व उसके परिजनों से पैसे वसूलने के लिए गंभीर हालत के बावजूद उसे एएनएम ने भर्ती रखा, जिससे उसकी मौत हो गई।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से 38 किमी दूर ब्लाक सूरतगंज के रहने वाले धनवालिया निवासी पीड़ित बुधाराम बताते हैं, ‘उसने प्रसूता रामदुलारी (28 वर्ष) को रविवार दिन में ग्यारह बजे प्रसव पीड़ा होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र छेदा में भर्ती कराया। यहां एएनएम ने दस हजार की मांग करते हुए उसे भर्ती कर लिया और पैसो की मांग करती रही। देर रात प्रसूता ने बच्चे को जन्म दिया, जिसके बाद उसकी हालत गम्भीर होने लगी। आखिरकार रात में ही उसे रेफर कर दिया गया।’

पीड़ित ने बताया, ‘सरकारी साधन भी हमें नहीं मिल पाया, जिससे प्राइवेट साधन करके किसी तरह जिला अस्पातल ले जाया गया। इसी बीच रास्ते में ही उसकी पत्नी की मौत हो गई। इसके लिए उसने एएनएम की लापरवाही को कारण बताया है।’ उल्लेखनीय है कि अभी एक सप्ताह पहले ही उतरावां निवासी अवधेश सिंह की बेटी नीशा (25 वर्ष) की भी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बेलहरा में हालत बिगड़ने के बाद जिला अस्पाताल ले जाते समय मौत हो गई थी।

अब सवाल ये उठता है कि जब प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर सभी सुविधाएं नहीं उप्लब्ध है तो गंभीर मरीजों को आठ से दस घन्टे भर्ती क्यों किया जाता है? धनवालिया निवासी अखलेश कहते हैं कि गंभीर मरीजों को भी यहां पर तैनात एएनएम सिर्फ इसलिए रोकती है की पैसे ऐठ सके।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top