नवाचार : फरियादियों के लिए पीलीभीत के थानों में पर्ची सिस्टम होगा शुरू 

नवाचार : फरियादियों के लिए पीलीभीत के थानों में पर्ची सिस्टम होगा शुरू उत्तर प्रदेश पुलिस। प्रतीकात्मक फोटो

अनिल चौधरी (स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क)

पीलीभीत। अभी तक देखा जाता था कि थानों में आने वाले पीड़ितों को पुलिस अधिकतर टरका दिया करती थी, जिसकी वजह से पीड़ितों को समय पर न्याय नहीं मिल पाता था। इस समस्या को देखते हुए पीलीभीत जिले के एसपी ने पर्ची सिस्टम लागू किया है। शुक्रवार को पुलिस लाइन से इस सिस्टम की शुरूआत की गयी। पीड़ितों को थानों में ही न्याय दिलाने की कवायद में पीलीभीत जनपद के पुलिस अधीक्षक देवरंजन ने पर्ची सिस्टम लागू किया। इस व्यवस्था के तहत सभी थानों के लिए बाकायदा दो जन शिकायत अधिकारी भी तैनात किये जायेंगे, जिनका काम थानों में आने वाले प्रत्येक फरियादी की शिकायत सुनकर पर्ची काटना होगा।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस कार्य का पुलिस अधीक्षक खुद मॉनिटरिंग करेंगे। इस पर्ची पर थाने में आने वाले प्रत्येक फरियादी का नाम, मोबाइल नंबर, शिकायत अधिकारी के हस्ताक्षर आदि दर्ज होंगे। सम्बंधित थानों के क्षेत्राधिकारी भी अपने स्तर से इन पर्चियों पर निगाह रखेंगे।

अक्सर देखा गया है कि पीड़ितों की शिकायतों में कार्यवाई करने में देरी हो जाती थी, इसलिए यह योजना बनाई गई है। इस नयी योजना से जनपद के पीड़ितों को जल्दी समस्या का समाधान मिल पायेगा।
देवरंजन, पुलिस अधीक्षक, पीलीभीत

पर्ची सिस्टम से जुड़ी कुछ मुख्य बातें

  1. प्रत्येक थाने पर दो जन शिकायत अधिकारी पीड़ितों का प्रार्थना-पत्र लेने के लिए नियुक्त रहेंगे।
  2. जन शिकायत अधिकारी लाल रंग की पट्टी धारण करेंगे, जिसपर सुनहरे धागे से 'जन शिकायत अधिकारी' लिखा होगा।
  3. गंभीर मामलों में जन शिकायत अधिकारी तत्काल थानाध्यक्ष व क्षेत्राधिकारी को सूचना देंगे और उनके निर्देशन में आगे की कार्यवाही सुनिश्चित करायेंगे।
  4. प्रार्थनापत्र लेकर जन शिकायत अधिकारी उसका समुचित अभिलेखीकरण करेंगे और प्रार्थी को रसीद के रूप में "पीले रंग की पर्ची" देंगे।
  5. थाने की कार्यवाही से अगर पीड़ित संतुष्ट नहीं है तो वह पीली पर्ची लेकर सम्बंधित क्षेत्राधिकारी के पास कम से कम तीन दिन के बाद जाएगा।
  6. क्षेत्राधिकारी कार्यालय से प्रार्थी को "हरे रंग की पर्ची" दी जाएगी। अगर प्रार्थी क्षेत्राधिकारी कार्यालय की कार्यवाही से संतुष्ट नहीं है तो वह पीली और हरी दोनों पर्चियां लेकर पुलिस अधीक्षक या अपर पुलिस अधीक्षक के पास कम से कम तीन दिन बाद जाएगा।
  7. पुलिस अधीक्षक/अपर पुलिस अधीक्षक कार्यालय से प्रार्थी को "सफ़ेद रंग की पर्ची" दी जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top