मैनेजमेंट में बेहतर कॅरियर के लिए करें कैट की तैयारी

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट की ओर से देश की सबसे बड़ी एमबीए प्रवेश परीक्षा 'कैट' कराई जाती है।

Shefali Mani TripathiShefali Mani Tripathi   31 Jan 2019 6:00 AM GMT

मैनेजमेंट में बेहतर कॅरियर के लिए करें कैट की तैयारी

लखनऊ। अगर आप मैनेजमेंट के क्षेत्र में भविष्य बनाना चाहते हैं और अच्छे कॉलेज में मैनेजमेंट की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपको देश की सबसे बड़ी एमबीए प्रवेश परीक्षा 'कॉमन एडमिशन टेस्ट' (कैट) की तैयारी करनी होगी। किस तरह से छात्र इस परीक्षा को पास करें और परीक्षा के दौरान किस तरह के प्रश्न आते हैं, इस बारे में हमने कॅरियर कांउसलर डॉ. राजेश पाण्डेय से खास बातचीत की।

डॉ. राजेश पाण्डेय बताते हैं, "कोई छात्र जिसके पास बैचेलर डिग्री हो वह इस परीक्षा के योग्य माना जाता है, इसके तहत जनरल कैटेगरी वाले छात्र को ग्रेजुएशन में 50 प्रतिशत, और अन्य कैटेगरी के लिये यह 45 प्रतिशत अंक का होना अनिवार्य है। कैट की परीक्षा हर साल इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) के द्वारा कराई जाती है। इस साल इसे इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट कोलकाता के द्वारा कराया जा रहा है। ऐसे में कैट का फार्म आईआईएम कोलकाता की वेबसाइट www.iimcal.ac.in और www.sarkariresult.com पर उपलब्ध होता है।"


परीक्षा के दौरान आने वाले प्रश्नों के बारे में डॉ. पाण्डेय बताते हैं, "इस परीक्षा के दौरान 100 प्रश्न आते हैं, जो तीन विषयों पर आधारित होते हैं। इस दौरान वर्बल एबीलिटी, क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड और डाटा इंटरप्रेटेशन एंड लॉजिकल रिजनिंग के सवाल आते हैं। यह प्रश्न प्रत्र पूरे 300 अंक का होता है। वर्बल एबीलिटी में 34 प्रश्न, क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड में 34 प्रश्न, डाटा इंटरप्रेटेशन एंड लॉजिकल रिजनिंग के दौरान 32 प्रश्न आते हैं।"

ये भी पढ़ें- एनडीए की करें तैयारी, सेना में बनाएं कॅरियर

डॉ. पाण्डेय बताते हैं, "इसके दौरान वैकल्पिक और व्याख्यात्मक प्रश्न आते हैं, जिसमें वैकल्पिक प्रश्नों की संख्या 75 और 25 प्रश्न व्याख्यात्मक प्रश्न से आते हैं। यह परीक्षा एक कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट है, जिसे सीबीटी कहते है। इस बार कैट की परीक्षा नवम्बर में आयोजित हो रही है और परीक्षा का परिणाम जनवरी में घोषित किया जाएगा।"

परीक्षा के पैटर्न के बारे में एक और कॅरियर काउंसलर डॉ. शोभित अग्रवाल बताते हैं, "तीनों विषयों को मिलाकर 180 मिनट की परीक्षा होती है। परीक्षा के पैटर्न भी हर साल बदलते रहते हैं। वर्बल एबीलिटी में छात्र के शब्दकोश के ज्ञान और भाषा पर उनकी पकड़ की देखी जाती है। ऐसे ही डाटा इन्टरप्रेटेशन एण्ड लॉजिकल रिजनिंग के दौरान छात्र में यह देखा जाता है कि अगर छात्रों को ढेर सारे सिचुएशन दिये जाएं तो वह किस तरीके से उन्हें हल करते हैं।"

होती है निगेटिव मार्किंग

परीक्षा में निगेटिव मार्किंग के सवाल पर डॉ. राजेश बताते हैं, "परीक्षा के दौरान निगेटिव मार्किंग भी होती है, जो केवल वैकल्पिक प्रश्नों के लिए होती है। परीक्षा के दौरान अगर कोई छात्र 63 से 67 सवालों को भी हल करता है तो उसे भी एक अच्छा प्रयास माना जाता है।"

इन बातों का रखें ख्याल

"यह एक कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट है इसलिए छात्रों को बुनियादी कम्प्यूटर का ज्ञान होना आवश्यक है। साथ ही छात्रों को परीक्षा के दौरान टाइम मैनेजमेंट (समय का सही उपयोग) करना आना चाहिए। छात्रों को परीक्षा के दौरान अपने अन्दर एक सकारात्मक रवैया रखना चाहिए और पूरे आत्मविश्वास के साथ परीक्षा देनी चाहिए।" डॉ. पाण्डेय ने बताया।

अकेलापन और मानसिक तनाव एक बड़ी स्वास्थ्य समस्या के रूप में उभर रहे हैं

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top